कोरोना पर मुख्यमंत्री ने की उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक, दिया यह आदेश

Chief Minister held high level review meeting at Tadepalli Camp office on Saturday - Sakshi Samachar

अमरावती : मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने अन्य राज्यों से आने वालों के लिए खाने और रहने के इंतजाम करने का अधिकारियों को आदेश दिया है। मुख्यमंत्री ने शनिवार को ताड़ेपल्ली कैंप कार्यालय में उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक की। 

इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि जो व्यक्ति 14 दिन तक क्वारंटाइन में रहना चाहते हैं, केवल उन्हें ही प्रदेश में प्रवेश की अनुमति दी जाये। इस क्वारंटाइन कैंप की रखवाली के लिए एक अधिकारी को जरूर नियुक्त किया जाये। यह अधिकारी पड़ोसी राज्यों के जिलाधीशों से भी बातचीत करें। 

सीएम ने कहा कि प्रदेश के सीमांत क्षेत्रों में जो कल्याण मंडप और होटल हैं, उनकी पहचान करें और उनका सेनेटाइजेशन कर दिया जाये। इनमें अन्य राज्यों से आने वालों को रखा जाये। उन्होंने इस अवसर पर वाईएस जगन ने वालेंटियरों द्वारा हाल ही में किये गये सर्वे और उसके नतीजों के बारे में भी अधिकारियों से जानकारी ली।

यह भी पढ़ें :

घर और बाहर में ऐसे करते रहिए साबुन और सैनिटाइजर का इस्तेमाल

उन्होंने सुझाव दिया कि जो डॉक्टर सेवाभाव से कोरोना वायरस नियंत्रित करने में सहभागी बनना चाहता है तो उनकी सेवाओँ को लिया जाये। साथ ही वालेंटियर्स, एएनएम और आशा वर्कर्स की पहचान करके उन्हें डॉक्टर से परिचय कराये तथा चिकित्सा सेवा शुरू की जाये।

सीएम जगन ने आगे कहा कि विशाखापट्टणम, विजयवाड़ा और गुंटूर शहरों पर विशेष ध्यान दिया जाये। साथ ही विदेशों से आये दस लोगों के लिए एक-एक डॉक्टर को नियुक्त किया जाये। इसके अलावा डॉक्टर्स और स्पेशलिस्ट के बीच वीडियो कांफ्रेंस भी की जाये। इसके अलावा टेस्टिंग की सुविधा में विस्तार करने का भी निर्देश दिया। किसी भी व्यक्ति में कोरोना वायरस के लक्षण पाये जाते हैं तो उसे तुरंत आइसोलेशन वार्ड में रखा जाये। लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंस का जरूर पालन किया जाये।

रोगी के बारे में खुलासा करना अपराध

दूसरी ओर, सरकार ने चेतावनी दी है कि कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति के बारे में खुलासा करना कानूनन अपराध है। प्रदेश में किसी रोगी की रहस्यमय बीमारी के बारे में खुलासा करने पर प्रतिबंध है। यदि कोई कानून के खिलाफ कोरोना वायरस रोगी या चिकित्सा जांच के बारे में खुलासा करता है उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।  

Advertisement
Back to Top