निर्चाचन अधिकारी को केवल अधिकार ही नहीं, कुछ जिम्मेदारी भी होती है : बुग्गना

Buggana Rajendranath Reddy Fires On Ramesh Kumar Over Local Bady Elections - Sakshi Samachar

रमेश कुमार द्वारा स्थानीय निकाय चुनावों को लेकर राजनीति करना ठीक नहीं

निर्चाचन अधिकारी को अधिकार ही नहीं हैं, जिम्मेदारी भी होती है

हैदराबाद : आंध्र प्रदेश के वित्त मंत्री बुग्गना राजेंद्रनाथ रेड्डी ने कहा कि एक संवैधानिक पद पर रहने वाले प्रदेश के निर्वाचन अधिकारी निम्मगड्डा रमेश कुमार द्वारा स्थानीय निकाय चुनावों को लेकर राजनीति करना ठीक नहीं है। बुग्गना ने शनिवार को स्थानीय लेक व्यू अतिथि गृह में मीडिया से यह बात कही। 

उन्होंने आगे कहा कि निर्चाचन अधिकारी को इस बात को कभी नहीं भूलना चाहिए कि वह केवल अधिकार ही नहीं हैं। उनकी कुछ जिम्मेदारी भी होती है। निर्चाचन अधिकारी ने स्थानीय निकाय के चुनाव को स्थगित किये जाने से पहले प्रदेश के मुख्य सचिव या स्वास्थ्य विभाग से संपर्क नहीं किया है। नियम के अनुसार निर्वाचन अधिकारी को चुनाव को स्थगित करने से पहले संबंधित विभाग के अधिकारियों से संपर्क करना चाहिए। मगर निर्वाचन अधिकारी ने बिना किसी से संपर्क किये ही चुनाव को स्थगित कर दिया है। 

मंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए सरकार आवश्यक कदम उठा रही है। मगर निर्वाचन अधिकारी ने लिखे पत्र में कहा कि कोरोना वायरस एक खतरनाक रोग है। इस बात को ध्यान में रखते हुए चुनाव को स्थगित किया गया है। यदि ऐसी कोई बात है तो वे मुख्य सचिव से इस बारे में बातचीत क्यों नहीं की?

यह भी पढ़ें :

केंद्रीय बल की सहायता से चुनाव कराने की यनमला की बात हास्यास्पद

उन्होंने कहा कि प्रदेश में चुनावी आचार संहिता के लागू रहने के कारण सरकारी फैसलों को लागू करने में क्या अड़चने नहीं आती है? उन्होंने कहा कि चुनाव स्थगित किये जाने के विरोध में प्रदेश सरकार सुप्रीम कोर्ट जाने की बात मालूम होने के बावजूद रमेश कुमार ने क्यों कैवियट याचिका दायर की है? क्या यह उनका नीजी मामला है?

Advertisement
Back to Top