चंद्रबाबू नायडू नहीं चाहते आर्थिक पिछड़ों का कल्याण : मंत्री बोत्सा

botsa says chandrababu does not want welfare of economically backward class - Sakshi Samachar

सरकार ने लोगों का जीवनस्तर बढ़ाया

चुनाव आयुक्त की संवैधानिक तौर पर नियुक्त हुई

अमरावती : आंध्र प्रदेश में नेता प्रतिपक्ष और टीडीपी के मुखिया चंद्रबाबू नायडू आर्थिक पिछड़े लोगों का कल्याण नहीं चाहते। वे व्यक्ति की व्यवस्था पर अधिक ध्यान देते हैं। बीते पांच साल में टीडीपी ने आर्थिक पिछड़े लोगों का भला नहीं किया।

टीडीपी ने अपने पिछले पांच साल के कार्यकाल के दौरान प्राकृतिक संसाधनों की बड़े पैमाने पर लूटखसोट की। आर्थिक पिछड़े लोगों के कल्याण के लिए टीडीपी ने कोई ठोस निर्णय नहीं लिया था। इसलिए लोगों को टीडीपी पर विश्वास नहीं रहा है। लोगों ने उन्हें बीते चुनाव में ठुकराया।

आंध्र प्रदेश के मंत्री बोत्सा सत्यनारायण ने कहा कि मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी के नेतृत्व में बनी सरकार ने सत्तारूढ़ होने के एक साल के भीतर ही चुनाव में दिये गये 90 प्रतिशत आश्वासन पूरे किये। इसके अलावा अन्य योजनाओं को भी अमल में लाते हुये लोगों का जीवनस्तर बढ़ाया है।  

बोत्सा सत्यनारायण ने कहा कि सरकार ने बिना किसी भेदभाव के हर एक व्यक्ति को योजनाओं का लाभ पहुंचाने पर जोर दिया। राजनीति से परे हो कर लोगों को योजनाओं का लाभ पहुंचाया। उन्होंने कहा कि 8 जुलाई को राज्य के 25 लाख लोगों में मकानों के पट्टे दिये जायेंगे।

इसे भी पढ़ें :

ऐसा करना NTR के लिए आत्मशांति नहीं मिलने के बराबर : विजयसाई रेड्डी

मंत्री ने कहा कि नये चुनाव आयुक्त की संवैधानिक तौर पर नियुक्ती हुई है। इसके बावजूद पूर्व चुनाव आयुक्त निम्मगड्डा रमेश की बजाय टीडीपी के नेता ही अदालत का दरवाजा खटखटाने में रूचि दिखा रहे हैं। उन्होंने कहा कि चंद्रबाबू को नहीं लगता कि आर्थिक पिछड़े लोगों का कल्याण हो। वे विकास के मार्ग पर आगे बढ़ें।

Advertisement
Back to Top