टीडीपी में बगावत, कुप्पम में पार्टी प्रभारी के खिलाफ उठी आवाज

TDP Looses Panchayat Elections in Chandrababu  Kuppam Constituency - Sakshi Samachar

कुप्पम में हिली टीडीपी की बुनियाद

पंचायत चुनाव में करारी हार 25 और 26 फरवरी को कुप्पम दौरे पर जाएंगे बाबू

चित्तूर : विधानसभा चुनाव में करारी हार के कारण पहले से कमजोर पड़ी तेलुगु देशम पार्टी को स्थानीय निकाय चुनाव में भी करारा झटका लगा है। राज्यभर में टीडीपी समर्थित उम्मीदवार चुनाव बुरी तरह से हार गए हैं। दशकों तक टीडीपी का गढ़ रहे इलाकों में वाईएसआरसीपी के समर्थकों की जीत से उस पार्टी के नेता चिंता में डूब गए हैं।

मुख्य रूप से चित्तूर जिले के कुप्पम विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के इतिहास में टीडीपी को पहली बार सबसे बड़ा झटका लगा है। टीडीपी की स्थापना के बाद से उसका गढ़ रहे चंद्रबाबू नायडू के निर्वाचन क्षेत्र में इस बार वाईएसआर कांग्रेस पार्टी का परचम लहराया है। कुप्पम निर्वाचन क्षेत्र में कुल 89 पंचायतों के लिए चुनाव कराए गए थे, जिनमें 74 पंचायतों में वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के समर्थकों की जीत हुई है तथा 10 पंचायतों में टीडीपी की जमानत जब्त हो चुकी है। 

लॉकडाउन में कुप्पम के लोगों को भगवान भरोसे छोड़ा

पंचायत चुनाव के परिणामों से नेता विपक्ष एक तरह से घबरा गए हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में पार्टी की हार, कोरोना के मद्देनजर घोषित लॉकडाउन जैसे संकट के दौर में चंद्रबाबू ने अपने निर्वाचन क्षेत्र की तरफ देखा तक नहीं। 35 साल का राजनीतिक भविष्य देने वाले कुप्पम के लोग जब मुश्किल में थे तब बाबू ने उनकी तरफ देखा तक नहीं है तो कुप्पम के लोग उनसे खासे नाराज हैं। इसी क्रम में हाल में हुए पंचायत चुनाव में लोगों ने मौके का फायदा उठाते हुए बाबू और उनके नेताओं को सबक सिखाया है। यही नहीं,  चंद्रबाबू की दिल की धड़कन कहे जाने वाले गुडुपल्ले मंडल में 12 पंचायतों पर वाईएसआर कांग्रेस पार्टी समर्थित उम्मीदवारों की जीत हुई है।

इस्तीफा देने को तैयार हुए टीडीपी प्रभारी ..!

पंचायत चुनाव के नतीजे टीडीपी में बगावत की वजह बन गए हैं। नेता पार्टी की करारी हार के लिए एक-दूसरे को कोसने लगे हैं। कुप्पम निर्वाचन क्षेत्र के टीडीपी प्रभारी पीएस मुनिरत्नम प्रति स्थानीय नेता व कार्यकर्ता आक्रोश व्यक्त कर रहे हैं। इसी क्रम में कुप्पम पहुंचे मुनीरत्नम और चंद्रबाबू नायडू के पीए मनोहर को कटु अनुभव का सामना करना पड़ा।

कार्यकर्ताओं ने दोनों को पार्टी की हार के लिए जिम्मेदार बताया। मंगलवार को रामकुप्पम में आयोजित टीडीपी की बैठक में जमकर हंगामा हुआ। स्थिति यहां तक पहुंच गई कि मुनिरत्नम टीडीपी प्रभारी पद से इस्तीफा देने को तैयार हो गए, हालांकि कार्यक्रम में मौजूद अन्य नेताओं को समझाने के बाद वे वहां से चले गए।

चंद्रबाबू का कुप्पम दौरा
टीडीपी के सूत्रों के मुताबिक राज्य में नेता प्रतिपक्ष व कुप्पम से विधायक नारा चंद्रबाबू नायडू इस महीने की 25 और 26 तारीख को कुप्पम का दौरा करने वाले हैं। दो दिनों तक निर्वाचन क्षेत्र के चार मंडलों का दौरा कर पंचायत चुनाव के नतीजों की समीक्षा करने वाले हैं।
 

Related Tweets
Advertisement
Back to Top