तिरुमला में निकाला गया श्रीवारी लक्ष्मी हारम का जुलूस, सदियों से चली आ रही ये परंपरा

Srivari Lakshmi Haram Procession at tirumala on Gajavahana seva day - Sakshi Samachar

तिरुपति : तिरुमला में रविवार सुबह 'श्रीवारी लक्ष्मी हारम' (वेंकटेश्वर स्वामी का लक्ष्मी हार)  की शोभायात्रा  वैभव मंडप तक निकाली गई।  उससे पहले श्रीवारी पादा (पादुका) के पास लक्ष्मी हार की विशेष पूजा की गई।

तिरुचानूरु श्री पद्मावती देवी  ब्रह्मोत्सवा के तहत गजवाहन के दिन वेंकटेश्वर स्वामी के आभूषणों के खजाने से अत्यंत महत्वपूर्ण लक्ष्मी हार से देवी को सजाने की परंपरा चली आ रही है। उसी के तहत रविवार को तिरुमला से कड़ी सुरक्षा के बीच वाहन में श्रीवारी लक्ष्मी हार को तिरुचानूर ले जाया गया। शाम को गजवाहन सेवा में देवी को श्रीवारी लक्ष्मी हार से सजाया जाएगा।

देवी को रेशम के वस्त्र भेंट

तिरुचानूरु श्री पद्मावती देवी के वार्षिक ब्रह्मोत्सव धूमधाम से मनाया जा रहा है। गजवाहन सेवा के लिए सरकार के मुख्य सचेतक चेवीरेड्डी भास्कर रेड्डी ने देवी को रेशम के वस्त्र भेंट किए। तुम्मलगुंटी श्री कल्याण वेंकटेश्वर स्वामी मंदिर से चेवीरेड्डी दंपती रेशम के वस्त्र लेकर देवी को भेंट किए।

हर वर्ष गजवाहन सेवा के दिन कल्याण वेंकटेश्वर स्वामी मंदिर से रेशम के वस्त्र ले जाकर देवी को  भेंट करने की परंपरा सदियों से चली आ रही है। इस बार भारी बारिश के बीच चेवीरेड्डी भास्कर रेड्डी दंपती ने उसी परंपरा को जारी रखते हुए देवी को रेशम के वास्त्र भेंट किए।

इसे भी पढ़ें : 

काशी के घाट पर कोरोना भगाने के लिए हुई 'शव साधना', हैरान करने वाली खबर

Related Tweets
Advertisement
Back to Top