आंध्र पंचायत चुनाव : निर्वाचन अधिकारी की मनमानी, घोषित तारीखों पर चुनाव कराने की जिद्द पर अड़े !

SEC has been decided to conduct panchayat elections as per the announced schedule in andhra pradesh - Sakshi Samachar

ग्रामीण इलाकों में गुरुवार से ही चुनाव संहिता लागू

घोषित कार्यक्रम के अनुसार चार चरणों में पंचायत चुनाव

अमरावती : आंध्र प्रदेश सरकार (Andhra Pradesh Government) की ओर से पंचायत चुनाव कराने के हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने के बाद भी प्रदेश निर्वाचन अधिकारी निम्मगड्डा रमेश कुमार (Nimmagadda Ramesh Kumar) ने 8 फरवरी को घोषित कार्यक्रम के अनुसार ही पंचायत चुनाव कराने का फैसला लिया है। रमेश कुमार ने गुरुवार को इस संबंध में मीडिया को एक बयान जारी किया। साथ ही पंचायतराज के प्रधान सचिव गोपालकृष्ण द्विवेदी और आयुक्त गिरिजा शंकर से शुक्रवार शाम 4 बजे मिलने के लिए बुलाया है।

आंध्र प्रदेश निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि पंचायत चुनाव 8 फरवरी को घोषित कार्यक्रम के अनुसार 5, 9, 13 और 17 फरवरी को चार चरणों में होंगे। उन्होंने कहा कि उच्च न्यायालय ने गुरुवार को पंचायत चुनाव कराने के समर्थम में फैसला सुनाया है। इसके चलते प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में गुरुवार से ही चुनाव संहिता लागू हो गई है। 

यह भी पता चला है कि निर्वाचन अधिकारी ने सरकार के मुख्य सचिव को सूचित किया है कि ग्रामीण मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए जन प्रतिनिधि कल्याणकारी योजनाओं के वितरण प्रणाली कार्यक्रमों में शामिल नहीं होनी चाहिए। 

यह भी पढ़ें :

आंध्र प्रदेश निकाय चुनाव अभी नहीं कराने को लेकर सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की याचिका

निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि सरकार के मुख्य सचिव, डीजीपी, जिलाधीशों और पुलिस अधीक्षकों के साथ चुनाव व्यवस्थाओं पर चर्चा के लिए जल्द ही एक बैठक आयोजित की जाएगी। चुनाव की ड्यूटियों में भाग लेने वाले कर्मचारी और उनकी सुरक्षा के बारे में सरकार उचित उपाय करेगी। यह भी पता चला है कि निम्मगड्डा ने सरकार के मुख्य सचिव आदित्यनाथ दास को एक पत्र लिखा है, जिसमें कहा गया है कि उच्च न्यायालय के फैसले के तुरंत बाद पंचायत चुनाव जारी कार्यक्रम के अनुसार ही होंगे।


 
इसके साथ ही निर्वाचन अधिकारी ने सीएस को एक और पत्र लिखा है, जिसमें पंचायत चुनाव प्रबंधन की व्यवस्था की समीक्षा करने के लिए जिलाधीशों के साथ बैठक की व्यवस्था किया जाये। दूसरी ओर निम्मगड्डा ने 13 जिलों के कलेक्टरों को फोन किया और चुनाव के संबंध में जानकारी ली। 
 

Advertisement
Back to Top