पेरोल पर आया कैदी फरार, ओडिशा में खोला टिफिन सेंटर, ऐसे हुआ गिरफ्तार

Police caught life sentenced Prisoner who has been Absconding From Seven Years - Sakshi Samachar

बहन की शादी में भाग लेने पेरोल पर आया कैदी

ओडिशा मे टिफिन सेंटर खोलकर बस गया वहीं

श्रीकाकुलम (आंध्र प्रदेश) : उसे एक महिला को हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा हो गई। विशाखापट्टणम जेल में सजा भुगत रहा था। बहन की शादी में भाग लेने पेरोल पर आया और पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया। ओडिशा चला गया। वहां पर टिफिन सेंटर खोलकर वहीं पर रहने लगा। 

लगभग सात साल से पुलिस उसकी तलाश कर रही थी। मगर उसका पता नहीं चला। आखिर श्रीकाकुलम जिले के काशीबुग्गा में रह रहे भाई के मकान की जमीन लेकर विवाद उठा। इस विवाद के निपटारे में भाग लेने वह आ गया। मिली सूचना के आधार पर पुलिस ने उसे धर दबोचा। 

काशीबुग्गा सीआई जी श्रीनिवास राव के मीडिया को बताया कि काशीबुग्गा शहर के सारा दुर्योधन राव ने 2007 में पातापट्टणम निवासी जी पार्वती नामक महिला की हत्या कर दी थी। जिला अदालत ने मामला साबित होने पर दुर्योधन को 3 अगस्त, 2013 को आजीवन कारावास की सजा सुनाई और उसे विशाखापट्टणम जेल में भेज दिया। 

इसी क्रम में जेल जाने के चार महीने बाद दुर्योधन की बहन की शादी पक्की हो गई। उसने बहन की शादी में भाग लेने के लिए पेरोल के लिए आवेदन किया। सरकार ने उसे दो दिन का एस्कॉर्ट पैरोल मंजूर किया। एस्कॉर्ट की मदद से वह काशीबुगा आया और पुलिस को चकमा देकर भाग गया। 

फरार होने के बाद वह ओडिशा के कोंधमाल जिले के बल्लीगुडा गांव चला गया। उसने वहीं पर एक टिफिन सेंटर लगाई और वहीं पर बस गया। पुलिस को पता चला कि दुर्योधन राव अपने भाई के मकान को लेकर उठे विवाद के सिलसिले में अक्सर काशीबुग्गा आता-जाता है। सीआई ने बताया कि बुधवार को भी वह अपने भाई से मिलने आ रहा है। 

पुलिस को मिली जानकारी के आधार पर उसे एमपीडीवीओ कार्यालय के सड़क के किनारे गिरफ्तार कर लिया गया। उन्होंने यह भी बताया कि गुरुवार को दुर्योधन राव को पलासा अदालत में पेश किया जाएगा। इस असवर पर एसआई मधुसूदन राव और अन्य उपस्थि थे।

काशीबुग्गा के डीएसपी शिवराम रेड्डी और सीआई जी श्रीनिवास राव ने भगोड़े दुर्योधन राव को गिरफ्तार करने में निर्णायक भूमिका निभाने वाले क्राइम पुलिस टीमों को बधाई दी है।
 

Advertisement
Back to Top