अपने ही घर में घिरे चंद्रबाबू, बयानों से नाराज क्रिश्चियन सेल के 13 नेताओं ने दिया इस्तीफा

mass resignations tdp christian cell leaders - Sakshi Samachar

चंद्रबाबू के बयानों से नाराज है क्रिश्चियन सेल के नेता

13 जिलों के क्रिश्चियन सेल के अध्यक्षों ने दिया पार्टी से इस्तीफा 

अमरावती: आंध्र प्रदेश (Andhra pradesh)  में कई ईसाई धर्म के अल्पसंख्यक नेता टीडीपी (TDP)अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू (Chandra babu naidu) के कार्यों का विरोध करने के लिए पार्टी छोड़ रहे हैं। उनका कहना है कि चंद्रबाबू धार्मिक सद्भाव को कम कर रहे हैं  और नफरत की राजनीति का सहारा लेकर आगे बढ़ने की सोच रहे हैं। चंद्रबाबू की ईसाईयों का अपमान करने वाली टिप्पणी के विरोध में 13 जिलों के टीडीपी क्रिश्चियन सेल (Christian cell) के अध्यक्षों ने इस्तीफा दिया है। 

टीडीपी क्रिश्चियन सेल चित्तूर के जिला अध्यक्ष यलमंचिली प्रवीण के नेतृत्व में मंगलवार को विजयवाड़ा में मिले 13 जिलों के नेताओं ने पार्टी से इस्तीफा देने का फैसला किया। प्रवीण ने बाद में मीडिया को बताया कि वह ईसाई धर्म के बारे में चंद्रबाबू की कठोर टिप्पणी से बेहद नाराज हैं।

क्या बाबू ने कभी चर्च में प्रार्थना नहीं की? 

प्रवीण ने चंद्रबाबू से सवाल किया कि वे राज्य सरकार से पूछ रहे हैं कि पोस्टर के लिए  5,000 रुपये किससे पूछकर दिये गए। तो क्या वे टीडीपी के घोषणा पत्र में सन्निहित बात को भूल गए हैं ? चंद्रबाबू ने हाल ही में प्रश्न किया था कि पुलिस स्टेशन में क्रिसमस कैसे मनाया गया तो क्या कभी चंद्रबाबू ने खुद चर्च जाकर प्रार्थना में भाग नहीं लिया? क्या कभी उन्होंने बाइबल नहीं पढ़ी? तब उन्होंने चर्च में डेढ़ घंटे तक कैसे प्रार्थना की और कैसे बाइबल पढ़ी थी ?

टीडीपी क्रिश्चियन सेल श्रीकाकुलम जिलाध्यक्ष डीवीडीवी कुमार, विजयवाड़ा अध्यक्ष वेंकन्ना, विशाखापट्टनम जिला अध्यक्ष बेनहर, पूर्व गोदावरी जिला अध्यक्ष रत्नराजु, पश्चिम गोदावरी जिला अध्यक्ष विजयकुमार, कृष्णा जिला अध्यक्ष वेस्ली, गुंटूर जिला अध्यक्ष इमैनुएल, प्रकाशम जिला अध्यक्ष प्रसाद राव, कडप्पा जिला अध्यक्ष विजय बाबू, नेल्लूर जिला अध्यक्ष वी सुरेंद्रबाबू के साथ अन्य लोगों ने भाग लिया।

इसे भी पढ़ें: 

राज्य चुनाव आयुक्त निम्मगड्डा रमेश कुमार की याचिका पर सुनवाई 18 जनवरी तक टली

यह भी पता चला है कि कई ईसाई समुदाय चंद्रबाबू के कार्यों की निंदा कर रहे हैं और उनकी गतिविधियों का विरोध करने के लिए तैयार हैं। वे इस महीने के अंत तक विजयवाड़ा में एक विशाल बैठक आयोजित करने की तैयारी कर रहे हैं।

Advertisement
Back to Top