गौड़ा ने आंध्र प्रदेश के किसानों के लिए उर्वरकों की घर पर डिलीवरी सुविधा का शुभारंभ किया

Gowda launches home delivery facility of fertilizers for Andhra Pradesh farmers - Sakshi Samachar

एंड-टू-एंड कम्प्यूटरीकरण की एक जटिल व्यवस्था लागू

उर्वरक की उपलब्धता के बारे में किसान को एसएमएस

नई दिल्ली : रसायन और उर्वरक मंत्री डी वी सदानंद गौड़ा ने आंध्र प्रदेश में किसानों के लिए उर्वरकों की सीधी घर पर पहुंचाने की सुविधा काशुभारंभ किया। एक सरकारी बयान में कहा गया है कि गौड़ा ने आंध्र प्रदेश में किसानों के लिए पीओएस (बिक्री केन्द्र) 3.1 सॉफ्टवेयर,एसएमएस गेटवे और उर्वरकों की होम डिलीवरी की सुविधा शुरू की। 

मंत्री ने कहा कि अखिल भारतीय स्तर पर डीबीटी (प्रत्यक्ष लाभ अंतरण) प्रणाली एक मार्च 2018 को शुरू की गई थी, जो अच्छी तरह से काम कर रही है। उन्होंने कहा कि उर्वरक विभाग ने पूरे देश में उर्वरक के आवागमन के एंड-टू-एंड कम्प्यूटरीकरण की एक जटिल व्यवस्था को सफलतापूर्वक लागू किया है। यह प्रणाली राज्य, जिले और खुदरा बिक्रीकेन्द्रों पर वास्तविक समय के आधार पर उर्वरक की उपलब्धता की निगरानी करने में सक्षम बनाती है। बयान में कहा गया है कि पिछले दो वर्षों में पूरी उर्वरक सब्सिडी इस प्रणाली के माध्यम से वितरित की गई है। 

गौड़ा ने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगनमोहन रेड्डी की उर्वरक की घर पर आपूर्ति करने में उनकी सरकार के उत्कृष्ट कार्यों के लिए उनकी सराहना की। वास्तव में, आंध्र प्रदेश एकमात्र राज्य है जिसने इस तरह की अनूठी पहल शुरू की गई है। केंद्रीय रासायनिक और उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख मंडाविया और रेड्डी ने भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभा को संबोधित किया। 

मंडाविया ने कहा कि आंध्र प्रदेश में उर्वरकों की होम डिलीवरी के लिए प्रायोगिक परियोजना अन्य राज्यों के लिए मॉडल है। किसान बिना फिंगर प्रिंट सेंसर को छुऐ भी उर्वरक खरीद सकेंगे। एसएमएस गेटवे समय-समय पर खुदरा आउटलेट पर उर्वरक की उपलब्धता के बारे में किसान को एसएमएस भेजेगा जहां से उसने आखिरी बार उर्वरक खरीदा था। उर्वरक की खरीद पर, उसके द्वारा खरीदी गई मात्रा और किये गये भुगतान राशि का संकेत करते हुए उसके मोबाइल पर एसएमएस भेजा जाएगा।

Related Tweets
Advertisement
Back to Top