विजयवाड़ा इंद्रकीलाद्री में दशहरा उत्सव आज से शुरू, ऐसे किये गये हैं इंतजाम

Dussehra Festival At Vijayawada Indrakeeladr Temple - Sakshi Samachar

पहले दिन दुर्गा माता सोने का कवच पहने होगी

हर दिन में दस हजारों श्रद्धालुओं को देवी के दर्शन

अमरावती : आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा इंद्रकीलाद्री (कनकदुर्गा माता मंदिर) में दशहरा उत्सव शनिवार से शुरू हो रहा है। उत्सव के पहले दिन दुर्गा माता सोने का कवच पहने भक्तों को देवी दुर्गा के रूप में दिखाई देंगी। माता के दर्शन के लिए हर दिन में केवल दस हजार श्रद्धालुओं को देवी के दर्शन की अनुमति दी जाएगी।

शनिवार सुबह माता के स्नपनाभिषेकम और अलंकरण किया जाएगा। इसके बाद सुबह 9 बजे से रात 8 बजे तक भक्तों को दर्शन करने की अनुमति दी जाएगी। अर्जित सेवाओं को अप्रत्यक्ष रूप से आयोजित किये जाएंगे। धर्मस्व विभाग ने कोविड के मद्देनजर दुर्गा माता मंदिर के पास कृष्णा नदी में स्नान करने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

कोविड के चलते लागू किये गये दिशानिर्देश इस प्रकार है-

मास्क पहनकर, ऑनलाइन टिकट और आईडी कार्ड के साथ कतार आने भक्तों वालों को ही अनुमति दी जाएगी। दस साल से कम उम्र के बच्चे और 60 वर्ष से अधिक आयु वाले बुजुर्गों को मंदिर में जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

साथ ही खांसी, सांस लेने में कठिनाई और बुखार की पुष्टि होने के बाद ही कतार में जाने दिया जाएगा। कतारों में कोई व्यक्ति किसी चीज को हाथ लगाता है तो ऐसे वस्तुओं को स्पर्श न करने के मंदिर परिसर में बोर्ड को स्थापित किये गये हैं।
 
भक्तों को सलाह दी गई है कि वे अपने साथ पानी की बोतल लेकर आये। आपात स्थिति के लिए मात्र कतार में पानी के डिब्बे में रखे गए है। दुर्गाघाट, अन्य घाटों में पवित्र स्नान और सिर मुंडन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। भक्तों को यह भी सलाह दी गई है कि वे गांवों में ही पूजा-अर्चना कर लें।

Advertisement
Back to Top