आंध्र प्रदेश सरकार पर काउंटर में किया गया बयान हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल ने लिया वापस

b s bhanumathi withdraws all his allegations against andhra pradesh govt - Sakshi Samachar

जस्टिस वंगा ईश्वरय्या को कही गई बातें वह वापस ली

न्यायपीठ ने हाईकोर्ट की कार्रवाई शुक्रवार तक स्थगित की

अमरावती : आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट की रजिस्ट्रार जनरल (आरजी) ने कहा कि हाईकोर्ट के निर्णय को आंध्र प्रदेश सरकार जब मानने को तैयार थी, तब उन्होंने काउंटर में बयान दिया था,उस बयान को वह वापस ले रही हैं। इस संदर्भ में आरजी बीएस भानुमति ने बुधवार को हाईकोर्ट में बयान पेश किया है। उन्होंने बताया कि सेवानिवृत्त न्यायमूर्ति और उच्च शिक्षा नियंत्रण आयोग के चेयरमैन जस्टिस वंगा ईश्वरय्या को कही गई बातें वह वापस ले रही हैं। 

आरजी ने कहा कि स्पीकर तम्मिनेनी सीताराम पर अदालत की अवमानना के प्रोसेडिंग से संबंधित दाखिल काउंटर में 13वां पैरा, पूरी तरह से हटा दे रही हैं। इस पर हाईकोर्ट ने आदेश जारी करते हुये कहा कि अगर ऐसा है तो उन्हें (आरजी) को अदालत में एफिडेविट दाखल करना होगा। न्यायमूर्ति जस्टिस मल्लवोलु सत्यनारायण मूर्ति और जस्टिस कन्नेगंटि ललिता की न्यायपीठ ने हाईकोर्ट की कार्रवाई शुक्रवार तक के लिए स्थगित करने काआदेश जारी किया। 

बीसी, एससी, एसटी और मायनारिटी स्टुडेंट फेडरेशन के सदस्य जे लक्ष्मीनरसय्या ने हाल ही में हाईकोर्ट में याचिका दायर की। याचिका में कोविड की रोकथाम को लेकर केंद्रद्वारा जारी गाइडलाइन्स का पालन करने में हाईकोर्ट असफल होने की बात कही गई। साथ ही हाईकोर्ट परिसर को रेड जोन घोषित करने का आदेश देने के बारे में कहा गया। इस याचिका पर आपत्ती व्यक्त करते हुये हाईकोर्ट की रजिस्ट्रार जनरल बी एस भानुमति ने प्राथमिक काउंटर दाखिल किया। इस याचिका को स्वीकार करना चाहिएया नहीं, इस पर लिये जानेवाले निर्णय को स्थगित किया गया। इस पर बुधवार को आदेश जारी करने की प्रक्रिया के दौरान प्रदेश सरकार की ओर से एडवोकेट जनरलश्रीराम ने रजिस्ट्रार जनरल के काउंटर पर आपत्ती व्यक्त की। 

सरकार के एडवोकेट जनरल ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के कालेजियम ने हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के पद पर एक न्यायमूर्ति सिफारिश की है। इस सिफारिश के बाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश या तात्कालिक न्यायमूर्ति को किसी प्रकार का निर्णय लेने का अधिकार नहीं होने की बात रजिस्ट्रार जनरल ने अपने काउंटर में कही, यह कोई ठोस कारण नहीं है। यह बाद एजी ने हाईकोर्ट के संज्ञान में लाई। 

एजी ने कहा कि स्पीकर ने न्यायालय की अवमानना की है और उनके खिलाफ न्यायालय के अवमानना की प्रोसिडिंग पेंडिंग है, इस तरह की बात रजिस्ट्रार जनरल ने अपने काउंटर में कही है। उन्होंने कहा कि जहां तक हमें जानकारी है, स्पीकर के खिलाफ इस तरह की कोई प्रोसिडिंग पेंडिंग नहीं है। एजी ने कहा कि हाईकोर्ट की आरजी के इस तरह के काउंटर कोई महत्व नहीं है। 

Related Tweets
Advertisement
Back to Top