आंध्र में कोरोना के खिलाफ और तेज हुई मुहीम, अब सुबह 6 से 11 बजे तक ही खुली रहेंगी दुकानें

 AP Government reduced Timing of Purchasing Essential Commodities - Sakshi Samachar

सुबह 6 से 11 बजे तक खरीद सकेंगे सामान

किसानों को मिलेगी MSP

ग्राम वालेंटियर्स तैयार करेंगे रिपोर्ट

अमरावती : आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी सरकार ने कोरोना वायरस के खिलाफ जारी व्यवस्था को और सख्त बनाते हुए  रोजमर्रा की वस्तुओं की खरीददारी के लिए शहरी इलाकों में दी जा रही ढील में  दो घंटे की कटौती करने का फैसला लिया है। शहरी क्षेत्रों में लोग अब सुबह 6 से 11 बजे के बीच ही अपने रोजमर्रा की चीजें खरीद सकेंगे।  हर दुकान पर रोजमर्रा की चीजों की दर पट्टिका डिस्पेल की जाएगी और विभिन्न क्षेत्रों में फंसे लोगों को सभी प्रकार की सुविधाएं मुहैया कराने के भी निर्देश दिये गए हैं।

सुबह 6 से 11 बजे तक खरीद सकेंगे सामान

मुख्यमंत्री कार्यालय ने अधिकारियों को स्पष्ट आदेश दिया है कि शहरी क्षेत्रों में यह छूट सुबह 6 से 11 बजे तक और ग्रामीण  क्षेत्रों में सुबह 6 से दोपहर 1 बजे तक लागू सुनिश्चित करें। सभी दुकानों व सुपरमार्केटं पर प्राइस लिस्ट डिस्प्ले किया जाएगा और इस नियम का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। यही नहीं,अधिक दाम पर सामान बेचने वालों के खिलाफ शिकायतें दर्ज करने के लिए एक कॉल सेंटर काम करेगा और और अधिक दाम पर चीजें बेचने वालों को सीधे जेल भेजा जाएगा। मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी की अध्यक्षता में आयोजित उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक के बाद मंत्रियों ने मीडिया को बताया कि मुख्यमंत्री के सभी आदेशों का सख्ती से पालन किया जाएगा। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्राम वालेंटियरों के सर्वे एक्टुरेट होना चाहिए और इसका समय-समय पर मोनिटरिंग भी होती रहनी चाहिए। उन्होंने अधिकारियों से विश्वभर में फैले कोरोना वायरस को लेकर एक कार्ययोजना तैयार करने को कहा। 

किसानों को मिलेगी MSP

बैठक के बाद स्वास्थ्य मंत्री ने मीडिया को बताया कि मुख्यमंत्री ने कृषि, एक्वा और अन्य क्षेत्रों में कार्यस्थलों पर सोशल डिस्टेन्स बनाए रखने के स्पष्ट आदेश दिए हैं। साथ ही किसानों को अधिकतम समर्थन मूल्य मुहैया कराने को कहा है। अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को एक्वा  क्षेत्र को लेकर की गई व्यवस्था और उन्हें अधिकतम समर्थन मूल्य मुहैया कराने के लिए उठाए गए कदमों से अवगत कराया। इस पर सीएम ने सरकार द्वारा निर्धारत दर से कम दाम पर एक्वा उत्पादन खरीदने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के आदेश भी दिए हैं।
  
उन्होंने बताया कि सरकार रोजमर्रा की चीजों की निरंतर आपूर्ति और इन चीजों की ढुलाई के लिए ट्रांसपोर्ट वाहनों, इमर्जन्सी वाहनों के लिए अलग व्यवस्था करेगी। मुख्यमंत्री के निर्देश के मुताबिक सभी मंत्री और विधायक अपने-अपने जिलास्तरीय अधिकारियों के साथ समन्वय बनाकर कोरोना वायरस की स्थिति पर नजर रखेंगे। साथ ही यह भी सुनिश्चित करेंगे कि लॉकडाउन के दौरान लोगों को किसी तरह की परेशानी न हो।

ग्राम वालेंटियर्स तैयार करेंगे रिपोर्ट
स्वास्थ मंत्री ने बताया कि ग्राम वालेंटियर, एएनएम और आशा वर्कर्स कोरोना वायरस की स्थिति पर सरकार को रिपोर्ट सौंपने के लिए ग्राउंड लेवर बेहतर काम कर रहे हैं।  उन्होंने कहा कि राज्य की सीमा सहित अन्य जगहों पर फंसे अन्य राज्यों के लोगों को बेहतर आवास और भोजन मुहैया कराया जाएगा। यही नहीं, सरकार उन्हें साबून, ब्रश सहित अन्य जीवनावश्यक चीजें मुहैया कराएगी।

इसे भी पढ़ें : 

कोरोना वायरस : CM जगन मोहन रेड्डी की राह पर आगे बढ़ा केरल और ब्रिटेन

आरटीसी बसों का करें इस्तेमाल
 
मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को जीवनावश्यक चीजों व सब्जियों की आपूर्ति में आरटीसी बसों का इस्तेमाल करने और ओल्ड एज होम्स के लिए भी जरूरी सामानों की आपूर्ति करने का निर्देश दिया है।इस बीच, कृषिमंत्री कुरुसाला कन्नबाबू ने कहा कि खेती के लिए जरूरी उर्वरक और कीटनाशकों को निर्बाध आपूर्ति के लिए राज्य सरकार ने सभी आवश्यक कदम उठाए हैं। साथ ही मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार एक्वा से जुड़े सभी उद्योग फिर से खोल दिए गए हैं। हालांकि इसमें सोशल डिस्टेन्स मैंटेन किया जा रहा है और इसी के तहत सभी कर्मचारियों को मास्क और ग्लोवज मुहैया कराए जा रहे हैं। 

जिलास्तर पर इंटीग्रेटड कॉल सेंटर
पुलिस महानिदेशक गौतम सवांग ने बताया कि विभिन्न समस्याओँ को सुलझाने के लिए हर जिले में एक एकीकृत कॉल सेंटर स्थापित किया जा रहा है। यही नहीं, कोरोना वायरस का असर अधिक रहने वाले शहरी क्षेत्रों को प्राथमिकता दी जा रही है। बैठक में बोत्सा सत्यनारायण, एम. सुचरिता, के. कन्नबाबू, बुग्गना राजेंद्रनाथ रेड्डी, मोपीदेवी वेंकटरमणा, मुख्य सचिव नीलम सहानी, विशेष स्वास्थ सचिव जवाहर रेड्डी, पुलिस महानिदेशक गौतम सवांग आदि ने हिस्सा लिया। 
 

Advertisement
Back to Top