मरकज से आने वालों पर पैनी नजर, प्राइवेट सेक्टर से सहयोग की अपील : सीएम जगन

AP CM YS Jagan Speaks on Corona Virus in Andhra Pradesh - Sakshi Samachar

अमरावती : आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने राज्य में तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस के मामलों के नियंत्रण के लिए राज्य सरकार हर संभव कार्रवाई कर रही है। वायरस के लक्षण वाले लोगों का पता लगाने के साथ ही उनका इलाज की जिम्मेदारी सरकार निभाएगी। परंतु पिछले दो दिन से राज्य में कोरोना वायरस के मामले तेजी से दर्ज हो रहे हैं,जो हमारे लिए चिंता का विषय है।

दिल्ली में आयोजित मरकज में हिस्सा लेने के लिए विदेशों से कई लोग पहुंचे थे और उनसे वहां पहुंचे आंध्र के लोगों में यह वायरस फैला है। उन्होंने बताया कि दिल्ली में मरकज में हिस्सा लिए लोगों में 70 लोगों में कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। 
राज्यभर में ग्राम वालेंटियरों, आशा वर्कर्स और ग्राम सचिवालय के कर्मचारियों के जरिए घर-घर सर्वे करवा कर कोरोना संदिग्धों का पता लगाने के साथ ही उन्हें क्वारंटाइन में भेजा जा रहा है। उन्होंने लोगों से कोरोना वायरस के लक्षण दिखाई देने पर तुरंत पास के स्वास्थ्य केंद्रों व डॉक्टरों के पास जाकर अपनी जांच करवाने की अपील की। 

उन्होंने कहा कि दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से लौटे सभी लोगों का पता लगाने का काम तेजी से जारी है और हमें पूरा विश्वास है कि हम जल्द ही उनका पता लगाकर उन्हें क्वारंटाइन में रखेंगे। उन्होंने कोरोना का इलाज कराने के बाद भी लोगों को घरों से बाहर नहीं निकलना चाहिए। उन्होंने कहा कि कृषि मजदूर सुबह 6 बजे से 1 बजे तक अपना काम बिना किसी रूकावट के कर सकते हैं, लेकिन इसमें एक सावधानी जरूरी है और वह है दो लोगों के बीच कम से कम 2 मीटर का सोशल डिस्टेन्स होना चाहिए।
 यही नहीं, शहरों में लोग सब्जियों सहित रोजमर्रा की वस्तुओं की खरीददारी कर सकेंगे।

इसे भी पढ़ें : 

आंध्र में रिकार्ड समय में पेंशन वितरित, वालेंटियरों ने तड़के किया था शुरू

उन्होंने बताया कि कोरोना के मडिकल टेस्ट और नियंत्रण के कारण राज्य की आर्थिक स्थिति पर असर पड़ा है। उन्होंने निजी मेडिकल कॉलेजों व अस्पताल प्रबंधनों से जरूरी सहयोग देने की अपील की। उन्होंने कहा कि दिल्ली के मरकज में आंध्र प्रदेश के कुल 1085 लोगों के हिस्सा लेने का हवाला देते हुए कहा कि जिन लोगों को भी कोरोना के लक्षण होने की आशंका हैं तो वे घबराए नहीं और वह अपने घरों पर ही रहे या फिर स्थानीय डॉक्टर से संपर्क करें। 
 

Advertisement
Back to Top