'पिंक डायमंड' के मामले हाईकोर्ट ने खारिज कर दी TDP नेता की याचिका, जानें पूरा मामला

Andhra Pradesh HC says no need for pink diamond probe - Sakshi Samachar

'पिंक डायमंड ' को लेकर हाईकोर्ट नहीं उठाना चाहती जोखिम

2017 में नदारद हुआ 'पिंक डायमंड'

अमरावती : आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) हाईकोर्ट (High Court) ने तिरुमला  (Tirumala) के भगवान श्री वेंकटेश्वर स्वामी (Lord Venkateshwar) के मंदिर से गायब 'पिंक डायमंड' (Pink Diamond) पर दायर याचिका खारिज कर दी। हाई कोर्ट ने कहा कि 'पिंक डायमंड' को लेकर सुप्रीम कोर्ट ((Supreme Court) की समिति ने दो बार रिपोर्ट पेश की है। इसलिए जांच के लिए फिर से आदेश देने की कोई आवश्यकता नहीं है। 

हाईकोर्ट ने कहा कि टीटीडी के 'पिंक डायमंड' के बारे में किसी प्रकार का जोखिम नहीं लिया जाएगा। मामले में मुख्य न्यायाधीश जस्टिस आरुप कुमार गोस्वामी और न्यायाधीश जस्टिस चागरी प्रवीण कुमार के नेतृत्व में बनी न्यायपीठ ने आदेश जारी किया है। 

टीडीपी के प्रवक्ता विद्यासागर ने 'पिंक डायमंड' के मामले जांच करने का आदेश देने का अनुरोध करते हुए याचिका दायर की थी। इस पर सांसद विजयसाई रेड्डी और तत्कालीन टीटीडी के मुख्य पुजारी रमणा दिक्षीत, ईओ आईवाईआर कृष्णा राव, एवी सुब्रह्मण्यम व्यक्तिगत तौर पर प्रतिवादी के तौर पर थे। कोर्ट ने विजयसाई रेड्डी और अन्य को प्रतिवादी के तौर पर चर्चा करने से मना किया। 

इसे भी पढ़ें :

तिरुपति बालाजी मंदिर के स्टाफ की करतूत, पत्नी को बेचने की सोशल मीडिया पर पेशकश

300 साल पुराने फॉर्मूले से गुप्त रसोई में तैयार होता है तिरुपति बालाजी का लड्डू

आपको बता दें कि टीटीडी के प्रशासनिक भवन के खजाने से 2017 में 'पिंक डायमंड' नदारद हुआ। दो साल बाद यानी अगस्त, 2019 में मामले की जानकारी उजागर हुई। स्टॉक वेरिफिकेशन के दौरान ईओ अनिल कुमार सिंघल ने मीडिया से जानकारी दी थी कि टीटीडी के खजाने से सोने की दो अंगुठियां, दो नेकलेस (मूल्य 4.18 लाख रुपये), एक सोने का सिक्का (मूल्य 71,259 रुपये), एक चांदी का मुकुट (5.4 किलो, मूल्य 2.32 लाख रुपये), सिल्वर कोटेड कॉपर और एलुमिनियम के सिक्के (मूल्य 14,448 रुपये) कम पाये गये। 
 

Related Tweets
Advertisement
Back to Top