पटना: भाई तेजप्रताप की नाराजगी और भाइयों के बीच अनबन की अफवाहों के बीच पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने आज बयान दिया। उनके मुताबिक पार्टी को मजबूत बनाने के लिए सभी मिलकर काम कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें:

लालू के बेटों में दरार पैदा करने की किसकी है साजिश?

तेजस्वी ने अपील की कि लोग तिल का ताड़ न बनाएं। तेजस्वी ने विवाद से लोगों को ध्यान हटाने की बात कही। साथ ही जोड़ा कि हमें वास्तविक समस्याओं पर फोकस होना होगा। मौजूदा समय में 12 वीं रिजल्ट आने के बाद छात्र बुरी तरह परेशान हैं। किसी छात्र को 35 में 38 अंक मिले हैं तो कोई मेधावी छात्र फेल हो गया है।

इसके बाद मुजफ्फरपुर रेप सहित 44 लड़कियों से दुराचार का मुद्दा भी तेजस्वी ने उठाया। उन्होंने कहा कि इन मुद्दों पर काम करने की जरूरत है। तेजस्वी के मुताबिक, "अगर इन मुद्दों को छोड़ दें, तो बिहार का भला नहीं होगा।"

तेजप्रताप के बयानों पर प्रतिक्रिया देते हुए तेजस्वी ने कहा कि उनके बड़े भाई ने पार्टी को मजबूत करने की बात कही है। तेजप्रताप ने पार्टी की एकता और सांगठनिक मजबूती को लेकर बयान दिया है। जो 2019 के लोकसभा और 2020 के विधानसभा के लिए जरूरी है। तेजस्वी ने कहा, "उन्होंने (तेजप्रताप) ने स्पष्ट कहा है तेजस्वी कलेजे का टुकड़ा है। वो मेरे भाई के साथ मार्गदर्शक भी हैं, लिहाजा विवाद का सवाल ही पैदा नहीं होता।"