हैदराबाद : तेलंगाना में जुलाई माह में होने वाले ग्राम पंचायत चुनाव में देश में पहली बार 'नोटा' (इनमें से कोई नहीं) ऑप्शन की अमलवारी की जायेगी। प्रदेश के चुनाव अधिकारी वी. नागी रेड्डी मीडिया को यह जानकारी दी।

नागी रेड्डी ने आगे बताया कि देश में विधानसभा और लोकसभा चुनाव में नोटा ऑप्शन होता है। अब तेलंगाना पंचायत चुनाव में पहली बार इसकी अमलावरी की जा रही है। उन्होंने यह भी बताया कि बैलेट पेपर के आखिर में नोटा चिह्न अंकित होगा। बैलेट पेपर में उल्लेखित कोई भी उम्मीदवार वोट हासिल करने के काबिल न होने पर मतदाता नोटा का चयन कर सकता है। उन्होेंने कहा कि इससे बात साबित हो जाएगी कि सरपंच पद के लिए चुनाव लड़ने वाले व्यक्ति की गांव में कितनी विश्वसनीयता हैं।

यह भी पढ़ें :

उपचुनाव नतीजे : कैराना समेत 12 सीटों पर बीजेपी हारी, सिर्फ दो जगह खिला कमल

नागी रेड्डी ने अधिकारियों को आदेश दिया कि नोटा के बारे में लोगों में जागरुकता कार्यक्रम आयोजित किये जाये। उन्होंने यह भी बताया कि जुलाई के आखिर तक चुनाव की प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। साथ ही चुनाव के दौरान किसी भी प्रकार की अप्रिय घटनाओं को रोकने के लिए आवश्यक कदम उठाये जाएंगे।

उन्होंने यह भी बताया कि राज्य सरकार से वे आग्रह करेंगे कि पंचायत चुनाव को सुचारू रूप से पूरा करने के लिए अन्य राज्यों से अतिरिक्त बलो को बुलाये। साथ ही राज्य में पंचायत चुनाव समाप्त होने तक किसी प्रकार विकास कार्यक्रम नहीं किये जाएंगे।