चेन्नई : सुपरस्टार रजनीकांत ने आज आरोप लगाया कि स्टरलाइट विरोधी प्रदर्शन में असामाजिक तत्वों ने घुसपैठ की। इसके बाद पुलिस की गोलीबारी में 13 लोगों की मौत हो गई। अभिनेता ने तमिलनाडु के लोगों के हित में ऐसे लोगों से निपटने के लिए जयललिता की तरह कड़े कदम उठाने का आह्वान किया। उन्होंने स्टारलाइट प्लांट के मालिकों को आमानवीय करार दिया और कहा कि यह प्लांट अब कभी नहीं खुलना चाहिए।

पुलिस गोलीबारी में जख्मी हुए लोगों से मिलने के बाद संवाददाताओं से बाचतीत में रजनीकांत ने मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी के इस्तीफे की हिमायत नहीं की। उन्होंने इस घटना पर दुख जाहिर करते हुए कहा, ''आम लोगों ने कलेक्टर के कार्यालय पर हमला नहीं किया और ना ही (स्टरलाइट में) घरों (क्वार्टर) को जलाया। (आंदोलन कर रहे स्थानीय लोगों की भीड़ में) कुछ असामाजिक तत्वों ने घुसपैठ की ... ये सब उन्होंने किया है।''

इसे भी पढ़ें

तूतीकोरिन हिंसा : सीबीआई जांच के लिए सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दाखिल

उन्होंने कहा कि उस नेक प्रदर्शन का अंत खून-खराबे के साथ हुआ। इस महीने की 22 और 23 तारीख को प्रदर्शन के हिंसक रूप ले लेने के बाद पुलिस की गोलीबारी में 13 लोगों की मौत हो गई थी और संबंधित घटनाओं में 48 लोग जख्मी हुए थे। प्रत्येक घायल को 10,000 रुपये की राहत राशि देने वाले अभिनेता ने कहा कि पिछले साल तमिलनाडु में जलीकट्टू समर्थित प्रदर्शनों में भी 'असामाजिक तत्वों' ने घुसपैठ की। इससे पहले रजनीकांत ने घटना में जान गंवाने वाले प्रत्येक व्यक्ति के परिजन को दो - दो लाख रुपये की राहत राशि देने की घोषणा की थी।