नई दिल्ली : कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के नेता और कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने आज विधानसभा में फ्लोर टेस्ट में बहुमत हासिल कर लिया है। इसके साथ ही आज ही कर्नाटक विधानसभा के स्पीकर पद का भी चुनाव हो गया है। कांग्रेस के केआर रमेश को स्पीकर चुना गया है। वहीं बीजेपी ने फ्लोर टेस्ट से पहले विधानसभा से वॉकआउट कर दिया।

फ्लोर टेस्ट से पहले कुमारस्वामी ने कहा कि जनादेश भारतीय जनता पार्टी के लिए नहीं है। उन्होंने कहा कि इस बार जनादेश साल 2004 की तरह है। उस वर्ष मैं पहली बार विधायक बना था और सदन की कार्यवाही को देखता था। कुमारस्वामी ने कहा कि येदियुरप्पा ने कहा कि राज्यपाल ने नियमों का पालन किया कि पहले सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने का मौक मिलना चाहिए। मैं गुलाम नबी आजाद, सिद्धारमैया और जी परमेश्वर का धन्यवाद करना चाहूंगा।

वहीं बीजेपी ने फ्लोर टेस्ट से पहले सदन से वॉकआउट किया। इस दौरान येदियुरप्पा ने कहा कि अगर सरकार ने किसानों की कर्जमाफी नहीं की तो वे सोमवार से राज्यव्यापी प्रदर्शन करेंगे।

फ्लोर टेस्ट से पहले स्पीकर पद के लिए हुए चुनाव में बीजेपी ने अपने उम्मीदवार सुरेश कुमार का नाम वापस ले लिया है। जिसके बाद सर्वसम्मति से केआर रमेश को कर्नाटक विधानसभा का स्पीकर चुन लिया गया है।

बता दें कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के 78 विधायक जीत के आए हैं। वहीं जेडीएस के 36 और बसपा के एक विधायक को इस चुनाव में सफलता मिली है। इस गठबंधन सरकार को केपीजेपी के एक विधायक और एक निर्दलीय विधाय का भी समर्थन प्राप्त है।

इसे भी पढ़ें

LIVE: कुमारस्वामी ने ली कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ, जी. परमेश्वर बने डिप्टी CM

विधासभा की कार्यवाही आज दोपहर 12:15 बजे से शुरू हुई।वहीं दोपहर दो बजे मुख्यमंत्री कुमारस्वामी सद में विश्वास मत प्रस्ताव पेश करेंगे।

गौरतलब हो कि नई सरकार के गठन के बाद प्रदेश की विधानसभा में स्पीकर पद की रेस तेज हो गई थी। कांग्रेस की ओर से केआर रमेश कुमार ने विधानसभा के स्पीकर पद के लिए अपना नामांक भरा था। इस दौरान उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर और प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया मौजूद थे।

इसे भी पढ़ें

येदियुरप्पा ने चुनाव आयोग से की शिकायत, कहा- कर्नाटक चुनाव में हुई धांधली

दूसरी तरफ भाजपा विधायक सुरेश कुमार ने भी स्पीकर पद के लिए अपना नामांकन भर दिया था। इस मौके पर बीजेपी नेता अश्वथ नारायण और वी सुनील कुमार मौजूद थे।