चेन्नई : दक्षिण भारत के सुपरस्टार रजनीकांत ने कर्नाटक में राजनीतिक उथल-पुथल का जिक्र करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने लोकतंत्र की हत्या करने की कोशिश की थी, लेकिन आखिर में न्याय की जीत हुई। रजनीकांत ने आज मक्कल मंड्रम महिला विभाग की कार्यकर्ताओं से मुलाकात की।

इस मौके पर सुपरस्टार ने कहा कि सरकार बनाने के लिए भाजपा के समय मांगने पर राज्यपाल ने उसे 15 दिन का समय दिया और सभी ने मिलकर लोकतंत्र का मजाक उड़ाने की कोशिश की। परंतु आखिर हुआ क्या, अदालत के हस्तक्षेप से हालत बदल गए। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला सराहनीय है और आखिरकार जीत लोकतंत्र की हुई। उन्होंने कहा कि कर्नाटक में जो कुछ हुआ, उसपर शासकों को ध्यान देना चाहिए।

ये भी पढ़ें :

येदियुरप्पा का मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा, राज्यपाल को सौंपा त्यागपत्र

हालांकि उन्होंने चुनाव के बारे में वर्ष 2019 लोकसभा चुनाव लड़ने के बारे में अपना रुख स्पष्ट नहीं किया। उन्होंने कहा कि अभी बहुत समय है और जब चुनाव की तारीख घोषित होगी, तब देख लेंगे। ऐसे भी हम सबके लिए तैयार हैं। चुनावी गठबंधन के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि मौजूदा परिस्थितियों में इसपर कुछ भी कहना सही नहीं होगा।

उन्होंने बताया कि मैंने पार्टी का ऐलान नहीं किया था, इसीलिये कमल हासन द्वारा आयोजित सर्वदलीय बैठक में हिस्सा नहीं ले पाया, परंतु भविष्य में हर सभा में जरूर हिस्सा लूंगा।' उन्होंने कहा कि कावेरी जल बोर्ड और कर्नाटक के बजाय वरिष्ठ आईएएस अधिकारी के अधीन होने पर ही तमिलनाडु के साथ इंसाफ होगा।