कर्नाटक चुनाव 2018 : कांग्रेस ने स्वीकार की हार, JDS को देगी समर्थन

गुमाल नबी आजाद के साथ सिद्धारमैया - Sakshi Samachar

बेंगलुरू : कर्नाटक विधानसभा चुनाव की मतगणना में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। जबकि उनकी प्रतिद्वंद्वी पार्टी कांग्रेस दूसरे और जेडीएस तीसरे स्थान पर है। वहीं चुनाव के रुझानों को देखते हुए कांग्रेस ने अपनी हार स्वीकार कर ली है और जेडीएस को समर्थन देने की बात कही है।

खबर है कि कांग्रेस नेता सिद्धारमैया चार बजे राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौपेंगे। अभी तक आए रुझानों में बीजेपी 107, कांग्रेस 75, जेडीएस 38, तो दो सीटों पर निर्दलीय आगे चल रहे हैं।

रुझाने के सामने आने के बाद से कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद और अशोक गहलोत कर्नाटक पहुंच गए हैं। दोनों नेता लगातार जेडीएस के संपर्क में हैं। कांग्रेस कुमार स्वामी को सीएम और कांग्रेस के एक दलित नेता को डिप्टी सीएम बनाने की बात कह रही है।

वहीं परिणाम के सामने आने के बाद बीजेपी नेतृत्व भी सरकार बनाने के लिए सक्रिय हो गई है। बीजेपी की तरफ से जेपी नड्डा और धर्मेंद्र प्रधान दिल्ली से बेंगलुरू के लिए रवाना हो गए हैं। रुझाने को सामने आने के बाद बीजेपी नेता येदियुरप्पा ने अपनी दिल्ली की यात्रा रद्द कर दी है। येदियुरप्पा का कहना है कि हम सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे।

बता दें कि भाजपा ने पांच साल पहले हुए चुनाव में 40 सीटों पर जीत दर्ज की थी । मुख्यमंत्री सिद्धारमैया चामुंडेश्वरी से हार गए हैं और बादामी दोनों सीटों पर आगे चल रहे हैं। निर्वाचन आयोग के अधिकारियों का कहना है कि चामुंडेश्वरी सीट पर वह जनता दल सेक्युलर के जी.टी.देवगौड़ा ने जीत दर्ज की है। बादामी सीट पर सिद्धारमैया ने भाजपा के बी.आर.श्रीरामुलु को 1696 मतों से हरा दिया है।

वहीं कर्नाटक विधानसभा चुनाव परिणाम : कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एन ए हैरिस ने शांतिनगर सीट से अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा के के.वासुदेवमूर्ति को 18,205 मतों से पराजित किया।

भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बी.ए.येदियुरप्पा शिकारीपुरा सीट पर कांग्रेस के गोनी मालतेसा को 35,397 वोटों से हरा दिया है। राज्य के ऊर्जा मंत्री और कांग्रेस नेता डी.के.शिवकुमार ने कहा कि ये आंकड़े दर्शाते हैं कि पार्टी पांच साल तक सत्ता में रहने के बाद सत्ता से बेदखल होती दिख रही है।

राज्य में किसी भी पार्टी को सरकार बनाने के लिए 113 सीटों की जरूरत है। भाजपा के प्रवक्ता एस.शांताराम ने बताया, "हम खुश हैं क्योंकि पार्टी आधा रास्ता पार कर लिया है। हम जीत को लेकर पूरा भरोसा है।" भाजपा के कार्यकर्ताओं ने बेंगलुरू और नई द्लिली दोनों जगह पार्टी के झंडे लहराए और ढोल की थाप पर थिरकते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के समर्थन में नारेबाजी की।

यह भी पढ़ें :

कांग्रेस ने साधा जेडीएस से संपर्क, भाजपा को रोकने की कोशिशें तेज

कर्नाटक चुनाव में कांग्रेस को गढ़ बचाने में करनी पड़ रही है मशक्कत, नहीं चला राहुल का जादू

येदियुरप्पा के आवास के बाहर भी जश्न का माहौल रहा। पूर्व प्रधानमंत्री एच.डी.देवेगौड़ा की जेडीएस 40 सीटों पर आगे है। जैसे-जैसे मतगणना आगे बढ़ रही है, भाजपा नेता राज्य में पार्टी की जीत को लेकर आश्वस्त होते जा रहे हैं। भाजपा नेताओं का कहना है कि वे राज्य में सत्ता पर काबिज होने को लेकर आश्वस्त हैं। कांग्रेस के नेताओं ने इन रुझानों को देखकर जेडीएस के साथ गठबंधन की संभावनाओं के बारे में बात करना शुरू कर दिया है।

भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा ने कहा कि जेडीएस के साथ गठबंधन का सवाल ही नहीं उठता क्योंकि उनकी पार्टी स्पष्ट बहुमत की ओर बढ़ रही है। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने नई दिल्ली में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात की।

विश्लेषकों का कहना है कि भाजपा लिंगायत प्रभुत्व वाली सीटों पर आगे चल रही है जबकि जेडीएस वोक्कालिगा प्रभुत्व वाली सीटों पर आगे चल रही है। मुख्यमंत्री सिद्धारमैया बदामी सीट पर आगे चल रहे हैं जबकि चामुंडेश्वरी सीट पर पीछे चल रहे हैं।

भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा, "हम बहुमत से जीतेंगे।" वहीं, कांग्रेस पार्टी के नेता अशोक गहलोत ने कहा कि उनकी पार्टी जेडीएस के साथ गठबंधन को लेकर तैयार है। कर्नाटक में भाजपा की जीत की उम्मीदों से घरेलू शेयर बाजार में भी तेजी देखने को मिल रही है। सेंसेक्स एकदिनी कारोबार के दौरान अब तक 35,993.53 अंकों के उच्च और 35,498.83 अंकों के निम्न स्तर को छू चुका है।

आरआर नगर सीट पर चुनावी गड़बड़ी की शिकायत के चलते मतदान स्थगित कर दिया गया था। जयनगर सीट पर भाजपा उम्मीदवार के निधन के चलते मतदान टाल दिया गया था। चुनाव कार्यालय के सूत्रों ने बताया कि मतगणना लगभग 40 केंद्रों पर सुबह आठ बजे शुरू हुई।

Advertisement
Back to Top