पटना : राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताव यादव शनिवार को परिणय सूत्र में बंध जाएंगे। तेज की शादी राजद विधायकक चंद्रिका राय की बेटी ऐश्वर्या के साथ हो रही है। बिहार के पूर्व मंत्री तेज प्रताप यादव बारात लेकर रवाना हो चुके हैं। ये बारात वेटनरी कॉलेज मैदान पहुंचेगी। तेजप्रताप यादव की पूर्व मुख्यमंत्री दारोगा प्रसाद राय की पौत्री ऐश्वर्या राय की शादी में आने वाले हर आम और खास के लिए विशेष इंतजाम किए गए हैं। इस विवाह समारोह में जहां आधुनिकता देखने को मिल रही है, वहीं परंपरा का भी निर्वाह किया जा रहा है।

उधर, ऐश्वर्या मेहरून रंग के शादी के जोड़े में अपने पिता चंद्रिका प्रसाद के साथ वेटनरी ग्राइंट पहुंच चुकी हैं। उनके साथ मां, बहन व अन्य परिजन भी देखे गए।़

इसे भी पढ़ें

बेटे तेज प्रताप की शादी में शामिल होने के लिए लालू यादव ने मांगी पैरोल

बता दें कि लालू की सात बेटियों के बाद उनके बड़े बेटे का विवाह हो रहा है, इस कारण विवाह में कुछ भी कमी न रहे इसका खास ख्याल रखा जा रहा है। तेजप्रताप की शादी के लिए निभाए जा रहे वैवाहिक रस्मों में भी परंपराओं का बखूबी निर्वाह किया जा रहा है, जिसमें देसी अंदाज की झलक दिख रही है। संगीत कार्यक्रम में जहां आधुनिकता के साथ देसी अंदाज का मिश्रण दिखा, वहीं हल्दी और मटकोर में भी पुरानी परंपराओं का निर्वाह किया गया।

हल्दी के कार्यक्रम में जहां तेजप्रताप को बड़े-बुजुर्गो ने हल्दी चढ़ई, वहीं घर की महिलाओं द्वारा चुमावन भी किया गया। परंपरा के निर्वाह करते हुए तेजप्रताप की मां और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने अपने बेटे कुंवरथ भी उतारी।

इसे भी पढ़ें

कभी दी थी मारने की धमकी, अब बोले तेज प्रताप- सुशील चचा मेरी शादी में आइएगा जरूर

इसके अलावा लालू आवास पर जहां शहनाई की मधुर धुन सुनाई दे रही है, तो जयमाला कार्यक्रम समारोह स्थल वेटनरी कॉलेज मैदान में आधुनिक संगीत कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। इसके अलावा बड़ी संख्या में ढोल और नगाड़े का भी इंतजाम किया गया है।

लालू के नजदीकी रहे और राजद के विधायक भोला यादव ने कहा कि लालू प्रसाद और राबड़ी देवी का खास निर्देश है कि उन सभी परंपराओं का निर्वाह किया जाए जो पूर्वजों द्वारा किया जाता रहा है। उन्होंने बताया कि इस विवाह समारोह में पुरानी सभी परंपराओं का निर्वाह किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इसके लिए राबड़ी देवी प्रत्येक रस्मों के पूर्व बुजुर्ग रिश्तेदार महिलाओं से परामर्श भी कर रही हैं।

इधर, राजद के एक नेता ने बताया कि शादी का शुभलग्न 11 बजे रात से तीन बजे सुबह तक है, इस कारण विवाह की सभी रस्में इसी बीच संपन्न हो जानी है। इसके बाद सूर्योदय के पूर्व ही अपने पिता के घर से ऐश्वर्या की विदाई हो जाएगी। ऐश्वर्या परंपरा के मुताबिक, डोली में बैठकर अपने पति के घर पहुंचेंगी। इसके लिए विशेष डोली का निर्माण कराया गया है। कहा जा रहा है कि दूल्हे बन तेजप्रताप भी पालकी पर सवार होकर ही अपने होने वाले सुसराल पहुंचेंगे।

दूसरी ओर, आगंतुकों के स्वागत के लिए आयोजित प्रीतिभोज में भी देसी अंदाज में तैयारी की गई हैं। आगंतुकों के लिए खास व्यंजनों का इंतजाम किया गया है। खास बात है कि इस विवाह समारोह में आगंतुक सिर्फ शाकाहारी व्यंजनों का ही स्वाद चखेंगे। इन व्यंजनों को बनाने के लिए खास तौर पर उत्तर प्रदेश के कानपुर से उसी खानसामा को बुलाया गया है, जिसने अखिलेश यादव की शादी में व्यंजन तैयार करवाए थे।

शादी का मुख्य आयोजन स्थल पटना के वेटनरी कलेज मैदान में 10 हजार लोगों के खाने के इंतजाम किए जा रहे हैं। अलग-अलग क्षेत्रों से विशेषज्ञ रसोइयों को खाना बनाने के लिए बुलाया गया है।

राजद के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे ने बताया कि आने वाले आगंतुकों को किसी प्रकार की परेशानी न हो, इसके लिए राजद के नेताओं और कार्यकर्ताओं को विशेष दायित्व सौंपा गया है। उन्होंने बताया कि अतिथियों को शाकाहारी और लजीज व्यंजन परोसे जाएंगे।

राजद के एक नेता ने बताया कि सभी रसोइये (खाना बना रहे कारीगर) उत्तर प्रदेश के विभिन्न शहरों से बुलाए गए हैं। आगंतुकों के लिए बिहारी लिट्टी-चोखा, चाट का इंतजाम कराया गया है तो छोला-कुलचा और लजीज राजमा का भी अतिथि स्वाद चखेंगे। कानपुर से आए रसोइयों द्वारा लजीज इमरती और मिठाई बनाई गई है, वहीं अतिथियों को आगरा का पराठा भी परोसा जाएगा।

इस विवाह समारोह में कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी और उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा के भी आने की संभावना है। वर-वधू को आर्शीवाद देने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव उनकी पत्नी डिंपल यादव, केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान, रविशंकर प्रसाद सहित कई नेता यहां पहुंचने वाले हैं।