लखनऊ : उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक प्राइवेट बैंक में कानूनी सलाहकार (लीगल एडवाइजर) पद पाने के लिए केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय के फर्जी लेटर हेड पर जाली हस्ताक्षर कर एक सिफारिश पत्र लिखे जाने का मामला सामने आया है। इस मामले में भाजपा की ओर से एक अधिवक्ता के खिलाफ लखनऊ के हजरतगंज थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है।

आरोप है कि बस्ती निवासी अधिवक्ता राकेश कुमार अवस्थी ने एक प्राइवेट बैंक में कानूनी सलाहकार का पद पाने के लिए केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय के फर्जी लैटर हेड पर जाली हस्ताक्षर करके सिफारिशी पत्र प्रस्तुत किया है।

इन्हें भी पढ़ें

कुछ सालों में देश में 56 नए हवाई अड्डे करने लगेंगे काम : सुरेश प्रभु

मसाला बोर्ड में तेलंगाना के लिये बनेगा अलग प्रकोष्ठ : सुरेश प्रभु

बताते हैं कि मामला सामने आने पर भाजपा कार्यालय प्रभारी भारत दीक्षित ने आरोपी अधिवक्ता राकेश कुमार अवस्थी के विरुद्ध हजरतगंज थाने में मुकदमा दर्ज कराया है।

इस सम्बन्ध में हजरतगंज थाने के एक अधिकारी ने बताया कि अधिवक्ता के खिलाफ आईपीसी की धारा 41 9, 420, 468 और 469 के तहत मुकदमा पंजीकृत है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि हम इस मामले की जांच कर रहे हैं और आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।