लखनऊ: यूपी शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के प्रमुख ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर खुद की सुरक्षा की मांग की है। वसीम ने पीएम को लिखे पत्र में उल्लेख किया है कि चूंकि वे राम मंदिर के पक्ष में हैं लिहाजा अतिवादी तत्वों के निशाने पर हैं।

अयोध्या विवाद मामले में वसीम रिजवी का नरम रवैया है, उन्होंने खुलकर विवादित स्थल पर मंदिर बनाने की वकालत की है। जिसको लेकर मुस्लिम धर्म गुरुओं के वे निशाने पर रहे हैं। अह खतरनाक आतंकी संगठन भी उन्हें निशाना बनाने की फिराक में हैं। इसी के मद्देनजर रिजवी ने खुद की सुरक्षा के लिए सरकार से मांग की है।

यह भी पढ़ें:

मदरसे पर विवादित बयान देने पर रिजवी को दाऊद इब्राहिम ने दी धमकी !

बता दें कि माफिया सरगना दाऊद इब्राहिम के इशारे पर उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी की कथित रूप से हत्या का षड्यंत्र रचने के लिए तीन व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने आज यहां बताया कि इन तीन व्यक्तियों को उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर से गिरफ्तार किया गया है।

वसीम रिजवी की हत्या की साजिश रचने वाले तीनों आरोपियों की पहचान आरिफ, अबरार और सलीम के तौर पर हुई है। गत जनवरी में भी रिजवी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा था। जिसमें उन्होंने दावा किया था कि मदरसों में आतंकवादी पैदा होते हैं। उन्होंने पत्रों में मांग की थी कि इस्लामी संस्थानों को बंद कर देना चाहिए।

रिजवी ने प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में मांग की थी कि मदरसों का स्थान सीबीएसई या आईसीएसई से सम्बद्ध स्कूलों द्वारा लिया जाना चाहिए जो छात्रों को इस्लामी शिक्षा एक वैकल्पिक विषय के तौर पर मुहैया कराएंगे।