नई दिल्ली : संसद का आधा बजट सत्र हंगामे की भेंट चढ़ने के बाद कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू को पत्र लिखकर संसद का विशेष सत्र बुलाने का सुझाव दिया है।

रमेश ने महत्वपूर्ण विधेयकों को पारित करवाने और बहस व चर्चा करवाने के लिए राज्यसभा के सभापति से मई-जून में दो सप्ताह का विशेष सत्र बुलाने का आग्रह किया है।

रमेश ने अपने व्यक्तिगत सुझाव में नायडू से संसद का विशेष सत्र आयोजित करने का निवेदन किया है। उनका कहना है कि हंगामे के कारण संसद सत्र बाधित रहने से संसद को क्षति पहुंची है और विशेष सत्र आहूत करने से उसकी खोई प्रतिष्ठा बचाने में मदद मिलेगी।

यह भी पढ़ें :

बिद्या देवी भंडारी दूसरी बार निर्वाचित हुईं नेपाल की राष्ट्रपति

काठमांडो में बनेगी राष्ट्रीय पुलिस अकादमी, नेपाल की मदद कर रहा है भारत

बिहार के शिक्षा मंत्री के गिलास में शराब है या पानी, जांच करेगी नीतीश की पुलिस

संसद के दोनों सदनों को शुक्रवार को बजट सत्र की समाप्ति पर अनिश्चत काल के लिए स्थगित कर दिया गया। बजट सत्र के दौरान आंध्रप्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा प्रदान करने की मांग को लेकर तेलगू देशम पार्टी (तेदेपा) का विरोध प्रदर्शन, कावेरी प्रबंधन बोर्ड का गठन करने की मांग को लेकर अन्ना द्रमुक का प्रदर्शन और हजारों करोड़ रुपये के पंजाब नेशनल बैंक फर्जीवाड़े पर बहस करने को लेकर कांग्रेस के अड़े रहने के कारण करीब आधा सत्र हंगामे की भेंट चढ़ गया।

नायडू ने शुक्रवार को हैरानी जताते हुए कहा कि क्या सदन अपने वजूद और इसपर खर्च होने वाले संसाधन को सही ठहरा सकता है।

रमेश ने अपने पत्र में लिखा है, "मैं व्यक्तिगत तौर पर सुझाव देना चाहूंगा कि आप सरकार को मई के आखिर और जून की शुरुआत में दो सप्ताह का विशेष बजट सत्र आहूत करने के लिए राजी करें, जिससे महत्वपूर्ण विधेयक पारित होने के साथ-साथ ज्वलंत राजनीतिक, आर्थिक व सामाजिक मसलों पर बहस व चर्चा हो सके।"