चेन्नई : अभिनेता से नेता बने रजनीकांत ने मंगलवार को कहा कि मेरे पीछे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नहीं, बल्कि भगवान और लोग हैं। रजनीकांत ने घोषणा की हुई है कि वह आध्यात्मिक राजनीति का अनुसरण करेंगे।

आध्यात्मिक यात्रा से वापस लौटने पर उन्होंने पत्रकारों से कहा कि राज्य सरकार को कावेरी प्रबंधन बोर्ड गठित करने के लिए केंद्र सरकार पर अतिरिक्त दबाव डालना चाहिए। आध्यात्मिक यात्रा के दौरान भारतीय जनता पार्टी के कुछ नेताओं से मिलने और इस सोच पर कि भाजपा उनका समर्थन कर रही है, के बारे में पूछे जाने पर रजनीकांत ने भाजपा के समर्थन से इनकार किया और कहा कि केवल भगवान और लोग उनके साथ हैं।

इन्हें भी पढ़ें

रजनीकांत की नई फिल्म ‘काला’ का Teaser लॉन्च

श्रीदेवी के अंतिम संस्कार में शामिल होने मुंबई पहुंचे रजनीकांत

कमल हासन का खुलासा, रजनीकांत से की थी ‘गुपचुप बैठक’

रामराज्य यात्रा के मंगलवार को तमिलनाडु में प्रवेश करने पर उन्होंने कहा कि राज्य धर्मनिरपेक्ष है, सरकार को सुरक्षा मुहैया करानी चाहिए और किसी भी संप्रदायिक घटना को होने से रोकना चाहिए। अपनी राजनीतिक योजना के बारे में उन्होंने कहा कि वह अपना अगला कदम अपनी पार्टी, मक्काल मंद्रम पार्टी के जिले स्तर के पदाधिकारियों की नियुक्ति के बाद उठाएंगे।