नई दिल्ली : आंध्र प्रदेश के लिये विशेष दर्जे की मांग को लेकर दिल्ली के संसद मार्ग पर शांतिपूर्वक जारी महाधरने में भाग ले रहे वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के नेताओं को पुलिस ने गिरफ्तार किया। आंदोलन के तहत केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह को ज्ञापन सौंपने के लिये रैली के रूप में संसद के लिये निकले वाईएसआरसीपी के नेताओं को पुलिस ने पहले रोका और बाद में उन्हें गिरफ्तार कर जबरन वहां से भिजवा दिया।

इस मौके पर वाईएसआरसीपी के कार्यकर्ताओं ने अपने नेताओं को गिरफ्तार कर ले जाती हुई पुलिस को रोकने का प्रयास किया जिससे वहां कुछ देर के लिये तनाव जैसी स्थिति पैदा हो गई। वाईएसआरसीपी के सांसदों विजयसाई रेड्डी, वरप्रसाद, वाईवी सुब्बारेड्डी, मेकपाटी राजमोहन रेड्डी, मिथुन रेड्डी आदि को गिरफ्तार कर वाहन से थाने भेज दिया गया।

ये भी पढ़ें :

विशेष दर्जे को लेकर जंतर मंतर के निकट वाईएसआरसीपी का महाधरना

104वें दिन प्रजा संकल्प यात्रा का आगे बढ़ रहा हैं कारवां, आम सभा में लोगों का अपार सहयोग

विशेष दर्जे के लिये आंदोलनरत नेताओं की गिरफ्तारी पर वाईएसआरसीपी ने कड़ा असंतोष व्यक्त किया। वाईसीपी के सांसदों ने कहा कि जब वे इस्तीफा देने के लिये तैयार हैं, तो गिरफ्तारी उनके लिये कोई मायने नहीं रखती। उन्होंने स्पष्ट किया कि राज्य को विशेष दर्जा मिलने तक उनका पीछे हटना संभव नहीं है। उन्होंने बताया कि आंध्र के पांच करोड़ लोगों की आकांक्षा लेकर वे दिल्ली पहुंचे हैं, ऐसे में गिरफ्तारियों व प्रतिबंधों से पुलिस उनके आंदोलन को रोक नहीं सकती।

इस बीच,वाईसीपी के नेताओं ने कहा कि दिल्ली के नेताओं का सामना करना उनके लिये कोई नई बात नहीं है, क्योंकि विगत में कई बार वे दिल्ली के नेताओं का सामना कर चुके हैं। भाजपा अब भी वही गलती कर रही है जो विगत में किया था। वाईसीपी नेता कुरुसाला कन्नबाबू ने कहा कि केंद्र को चाहिए कि विशेष दर्जे के आश्वासन पर अमल करे। उन्होंने कहा कि टीडीपी-भाजपा गठबंधन की वजह से आंध्र प्रदेश के साथ अन्याय हो रहा है। उन्होंने कहा कि वे गिरफ्तारियों से डरने वाले नहीं है और इस आंदोलन को और तेजी से आगे ले जाएंगे।