लखनऊ : इलाहाबाद में दलित छात्र की हत्या के बाद राज्य सरकार पर विपक्ष ने हमला बोल दिया है। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश इस समय अपराधियों के हवाले है। बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा कि हत्या के पीछे कोई और नहीं, बल्कि भाजपा की संकीर्ण, जातिवादी व नफरत की राजनीति पूरी तरह से दोषी है।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश इस समय अपराधियों के हवाले है। जहां एक ओर अपराधी बेखौफ हत्याएं कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर पुलिस गुजरात की तर्ज पर एनकाउंटर की आड़ में निर्दोषों को ठिकाने लगाने में जुटी है। अखिलेश ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में राज्य सरकार के दस महीने के कार्यकाल में पूरे प्रदेश में जंगलराज कायम हो गया है।

अखिलेश ने अपने बयान में कहा है कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय के विधि स्नातक के छात्र दिलीप सरोज की दबंगों द्वारा बेरहमी से कूच-कूच कर पीटने से मौत की घटना इस बात का प्रमाण है कि सरकार की कानून व्यवस्था ध्वस्त है। उन्होंने राज्य सरकार से मांग की है कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय के मृतक छात्र के परिवार को 50 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाए।

उन्होंने कहा कि सरकार को दोषियों को तत्काल गिरफ्तार कर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। प्रदेश में कानून-व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त करने का काम भाजपा सरकार का है। मुख्यमंत्री अपनी संवैधानिक जिम्मेदारी से बच नहीं सकते। उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार को जनता को जवाब देना पड़ेगा।

यह भी पढ़ें :

इलाहाबाद में आक्रोशितों ने सिटी बस फूंका, दलित छात्र की हत्या के बाद माहौल गरम

इलाहाबाद: बसपा नेता राजेश यादव की हत्या के बाद बवाल, हुई आगजनी और पत्थरबाजी

वहीं बसपा अध्यक्ष मायावती ने दुख प्रकट करते हुए कहा कि ऐसे सदियों से शोषित-पीड़ित दलित समाज, जिसमें आजादी के लगभग 70 वर्षो के बाद भी उच्च शिक्षा नाम मात्र की ही है, के एक होनहार छात्र की हत्या से पूरा समाज आहत हुआ है।

मायावती ने अपने बयान में कहा कि दलित छात्र की इस प्रकार की नृशंस हत्या भाजपा शासन में कोई अकेली घटना नहीं है, बल्कि ऐसी दर्दनाक घटनाएं लगातार ही घटित हो रही हैं और इसके लिए कोई और नहीं, बल्कि भाजपा की संकीर्ण, जातिवादी व नफरत की राजनीति पूरी तरह से दोषी है।

बसपा प्रमुख ने कहा कि सर्वसमाज के खासकर लिखे-पढ़े युवक रोजगार नहीं मिल पाने के कारण कुंठा का शिकार हैं और जिस कारण विभिन्न प्रकार के अपराध हर स्तर पर लगातार बढ़ रहे हैं तथा समाज का तानाबाना भी बिखर रहा है।

मायावती ने कहा कि दिलीप सरोज नामक जिस छात्र की हत्या बेवजह खुलेआम कर दी गई है, उस परिवार की भरपाई किसी रूप में भी नहीं हो सकती। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को भी दोषियों को सख्त सजा देने के साथ-साथ पीड़ित परिवार की भी मदद जरूर करनी चाहिए।