कोलकाता: शहर के एक प्रतिष्ठित निजी स्कूल के एक शिक्षक को दूसरी कक्षा में पढ़ने वाली एक छात्रा का यौन उत्पीड़न करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने बताया कि इस शर्मनाक घटना के सामने आने के बाद बच्चों के माता-पिता और अन्य अभिभावकों ने स्कूल के बाहर प्रदर्शन किया। उन्होंने आरोपी को तत्काल निलंबित करने और उसके खिलाफ मुनासिब कार्रवाई की मांग की।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि पीड़िता के माता-पिता ने आरोप लगाया है कि स्कूल के डांस शिक्षक ने उनकी बेटी का यौन उत्पीड़न किया। उन्होंने बताया कि बच्ची ने कल अपने माता-पिता को इस बारे में बताया। घटना पर रोष जताते हुए पश्चिम बंगाल के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि अगर आरोपी शिक्षक के खिलाफ आरोप सही पाए गए तो उसे फिर कभी शिक्षा देने की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘मेरा अपना ख्याल है कि लड़कियों के स्कूल में पुरूष शिक्षकों की नियुक्ति नहीं होनी चाहिए।

एक बच्चे के नाराज अभिभावक ने स्कूल के बाहर संवाददाताअें से बात करते हुए आरोप लगाया कि स्कूल के अधिकारियों ने जानकारी मिलने पर शुरू में मामले को दबाने की कोशिश की, जिसके बाद हमने स्कूल के बाहर प्रदर्शन करने का फैसला किया। वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘हमने शिक्षक को गिरफ्तार कर लिया है और मामले की जांच शुरू कर दी गई है। उन्होंने कहा कि स्कूल के बाहर जमा लोगों ने आरोपी को ले जाए जाने के दौरान उसपर हमला कर दिया।

पश्चिम बंगाल के राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष अनन्या चटर्जी चक्रबर्ती ने बताया कि आयोग के दो अधिकारियों को हालात का जायजा लेने के लिए स्कूल में भेजा गया है। आयोग की प्रतिनिधि सुदेशना राय ने कहा, ‘‘हमें स्कूल द्वारा यह बताया गया कि स्कूल में लगे सीसीटीवी काम नहीं कर रहे हैं और परिसर के एक हिस्से में कुछ निर्माण कार्य भी चल रहा है। हम अपनी रिपोर्ट दाखिल करेंगे और जरूरी कदम उठाए जाएंगे।''