चेन्नई : मद्रास हाईकोर्ट ने सोमवार को एक निचली अदालत के फैसले को खारिज करते हुए सुपरस्टार रजनीकांत के खिलाफ मानहानि के एक मामले को फिर से खोले जाने का रास्ता साफ कर दिया है।

न्यायमूर्ति एमवी मुरलीधरन ने एक मजिस्ट्रेट अदालत को निर्देश दिया कि रजनीकांत की पेशी की तारीख निचली अदालत में सुनवाई की तारीख से अलग होनी चाहिए।

न्यायाधीश ने फिल्म फाइनेंसर एस मुकनचंद बोथरा की आपराधिक पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई के दौरान यह निर्देश दिया।

यह भी पढ़ें :

रजनीकांत की आध्यात्मिक राजनीति पर स्टालिन ने साधा निशाना

रजनीकांत, कमल हासन के बाद माधवन ने राजनीति में उतरने पर दिया यह जवाब

रजनीकांत के विरोध में खड़ा हुआ यह तमिल संगठन, कहा- तमिलनाडु पर केवल धरतीपुत्र का शासन