रामपुर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रोजगार के लिए पकौड़ा बेचने वाली टिप्पणी पर राजनीति गर्म है। राजनीतिक पार्टियां पीएम के कमेंट पर खूब चटखारे लेकर बयानबाजी कर रही है। इसी सिलसिले में यूपी के रामपुर में समाजवादी पार्टी की तरफ से 'पकौड़ा प्रोटेस्ट' का आयोजन किया गया।

सपा का गढ़ माने जाने वाले रामपुर में सपा कार्यकर्ताओं ने पकौड़ा बेचकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विरोध किया। इस दौरान कार्यकर्ताओं का उत्साह बढ़ाने के लिए सपा के दिग्गज नेता आजम खान भी मौजूद रहे। आजम ने पकौड़ा टेस्ट भी किया। हालांकि आम लोगों को सियासत का ये पकौड़ा कैसा लगा, कहना मुश्किल है।

रामपुर में सपा कार्यकर्ताओं का पकौड़ा प्रोटेस्ट 
रामपुर में सपा कार्यकर्ताओं का पकौड़ा प्रोटेस्ट 

बीते दिनों एक निजी चैनल को दिए साक्षात्कार में प्रधानमंत्री ने अपर्याप्त नौकरी सृजन को लेकर दलील दी कि पकौड़ा बेचकर 200 रुपए रोज कमाने वाले को बेरोजगार नहीं कहा जा सकता है। आज संसद में भाषण देते हुए अमित शाह ने भी पीएम के पकौड़ा वाले बयान पर सहमति जताई।

इससे पहले रविवार को यूपी के बरेली में समाजवादी पार्टी की तरफ से 'पीएम पकौड़ा ट्रेनिंग सेंटर' का आगाज किया गया था। जिसमें करीब चालीस युवाओं ने पकौड़ा तलने की ट्रेनिंग ली।

सपा के एक नेता ने तंज कसते हुए बयान दिया, 'ट्रेनिंग को हमने चार हिस्सों में बांटा है। बीटेक और एमटेक डिग्रीधारकों के लिए मोदी पकौड़ा, पीएचडी और एमबीए वालों के लिए शाह (अमित शाह) पकौड़ा, एमकॉम डिग्रीधारकों के लिए जेटली पकौड़ा और ग्रेजुएट सहित अन्य बेरोजगार युवाओं के लिए योगी पकौड़ा।'

समाजवादी पार्टी के नेताओं ने पीएम को याद दिलाई कि उन्होंने हर साल 2 करोड़ युवाओं को रोजगार देने का वादा किया था। ये वादे तो पूरे नहीं हो सके, और बेरोजगारी बढ़ती जा रही है। फिलहाल देश में करीब आठ करोड़ युवा काम धंधे की तलाश में हैं।

रामपुर में सपा कार्यकर्ताओं का पकौड़ा प्रोटेस्ट 
रामपुर में सपा कार्यकर्ताओं का पकौड़ा प्रोटेस्ट