गुंटूर (आंध्रप्रदेश) : गुंटूर जिले के एक किसान की आत्महत्या की धमकी से अधिकारियों में हड़कंप मच गया है। राजा नामक किसान ने सोशल मीडिया में एक वीडियो पोस्ट करके आगामी 22 जनवरी को जिलाधीश कार्यालय के सामने आत्महत्या करने की धमकी दी है।

किसान ने वीडिया में कहा, "मेरा नाम राजा है। मैं गुंटूर जिले के कारमपुड़ी मंडल परिधि के लक्ष्मीपुरम गांव का निवासी हूँ। मुझे एक एकड़ कृषि भूमि है। पिछले वर्ष 22 एकड़ भूमि बटाई पर लेकर खेती की। मगर फसल को कीड़ा लगने से पूरी तरह से बर्बाद हो गयी। इस खेती के लिए मैंने आठ लाख रुपये कर्ज लिया। यह कर्ज ब्याज के साथ 10 दस लाख रुपये हो गया है। इस कर्ज को चुकाने के लिए एक एकड़ भूमि को बेचने का फैसला लिया। इसी क्रम में गत 13 मई को स्थानीय अधिकारी को खेत के पास पुस्तक के लिए आनेदन किया। अधिकारी ने अबतक दस बार मुझे अपने कार्यालय में बुलाया। मगर पास पुस्तक नहीं दे रहा है।"

किसान राजा ने आगे कहा है, "मैं पक्का तेलुगु देशम पार्टी का प्रशंक हूँ। यह क्या सरकार है? किसान को ही राजा कहा गया है। चंद्रबाबू का यह क्या शासन है? किसान मर जाने पर भी आपको कोई फर्क नहीं पड़ता? किसान मर जाने के बाद चंद्रन्ना योजना के तहत पांच लाख रुपये मिलने की बात सुना हूँ। मेरे मर जाने के बाद पांच लाख रुपये मेरे परिवार को दीजिये। मेरी पांच एकड़ भूमि बेचे तो पांच लाख रुपये आएंगे। कुल 10 लाख रुपये से मेरा कर्ज मिट जाएगा।”

किसान ने यह भी कहा “आगामी 22 जनवरी से पहले यदि किसी को किडनी चाहिए तो मैं देने को तैयार हूँ। कृषि के सिवा मुझे कुछ और काम नहीं आता है। इसीलिए आत्महत्या करने का फैसला लिया हूँ। मुझे दो साल की बेटी और दस महीने का बेटा है। सरकार को एक बार सोचे। किसान कैसे जी रहा है? अधिकारी अनपढ़ लोगों को कैसे-कैसे कार्यालयों के चक्कर काटने को मजबूर कर रहे है। मुख्यमंत्री जी आपके कार्यालय में कैसे-कैसे काम हो रहे एक बार देखिये। भविष्य में मेरे जैसा कोई मुश्किल न उठा पाये यही मेरी आपसे विनती है।"

पता चला है कि किसान राजा के इस वीडियो पर अधिकारियों की नजर पर पड़ी है। राजा के आत्महत्या न कर पाये इसके लिए आवश्यक कदम उठा रहे हैं। इसी क्रम में गुरजाला राजस्व अधिकारी मुरली इस घटना को जांच पड़ताल आरंभ कर दी है।