जयपुर : जयपुर में मकर संक्रांति के दौरान बीते 24 घंटों में हुए विभिन्न हादसों में लगभग 80 लोग घायल हो गये। जयपुर के सवाई मान सिंह चिकित्सालय की आपातकालीन चिकित्सा ईकाई के प्रभारी डॉ. जगदीश मोदी ने बताया कि रविवार की सुबह से आज सुबह तक पतंगबाजी के दौरान गिरने और मांजे के कारण घायल हुए 80 लोगों को उपचार के लिये अस्पताल लाया गया।

गंभीर रूप से घायल दस लोगों को उपचार के लिये भर्ती किया गया। वहीं पंतगबाजी के दौरान मांजे में उलझकर कई पक्षी घायल हो गये। पशु चिकित्सकों और विभिन्न स्वयं सेवी संस्थानों ने घायल पक्षियों का उपचार किया। मालवीय नगर क्षेत्र के पक्षी चिकित्सालय में 1100 पक्षियों का उपचार किया गया। कांच से बने मांजे में उलझने के कारण चील, कोयल, कौआ, कबूतर आदि पक्षी घायल हो गये थे।

50 वर्षीय अधेड़ ने नाबालिग के निजी अंगों से की छेड़खानी, मामला दर्ज

कुत्तों के झुंड पर हमला, पशु प्रेमियों ने किया  थाने में मामला दर्ज

फरीदाबाद में अपहरण कर चलती कार में गैंगरेप, युवती को सड़क पर फेंका

पक्षी चिकित्सालय के निदेशक कमल लोचन ने बताया कि घायल पक्षियों के उपचार के लिये शहर में 13 जनवरी से 15 जनवरी के दौरान 32 कैंप लगाये गये थे। इस दौरान 1100 पक्षियों का उपचार किया गया। कल मकरसंक्राति के दिन 742 घायल पक्षियों का उपचार किया गया। उन्होंने बताया कि कुल घायल पक्षियों में से 200 पक्षियों की मौत हो गई।

घायल पक्षियों के उपचार से जुडी एक अन्य स्वयं सेवी संस्था रक्षा ने 12 जनवरी से 15 जनवरी तक करीब 460 घायल पक्षियों का उपचार किया। रक्षा स्वयं सेवी संस्थान के निदेशक रोहित गंगवाल ने बताया कि मकर संक्रांति को 250 घायल पक्षियों का उपचार किया गया। उपचार के दौरान 8 से 10 प्रतिशत पक्षियों की मौत हो गई।