प्रकाशम: कोयला भट्टी मालिक प्रताडना से तंग आकर दंपत्ति ने आत्महत्या कर ली। यह घटना जिले के कुटागुंड्ला गांव में गुरुवार को घटी। पुलिस ने बताया कि उलवपाडू मंडल के कूटागुंडला गांव के रहनेवाले 40 वर्षीय एडुकोंडलू और 35 वर्षीय मल्लीश्वरी दंपत्ति है। पति-पत्नी कूटागुंडला में कोटेश्वर राव और राजेश की कोयले की भट्टी में दो साल काम कर रहे थे।

इसी दौरान उन्होने कोयला भट्टी के मलिक से तीस हजार रुपये कर्ज लिया। भट्टी मालिक कर्ज चुकाने के लिए अक्सर उन पर दबाव डाल रहा था। इससे एडुकोंडलू काम छोड़कर पाकाला में किसी अन्य व्यक्ति के पास काम करने लगा। इस बात की जानकारी मिलने के बाद भट्टी का मालिक पाकाला गया और एडुकोंडलू को अपने साथ लाकर उसकी पिटाई की और पैसे वापस देने या जमीन के कागजात उसके पास गिरवी रखने के लिए दबाव डाला।

इससे एडुकोंडलू अपने घर जाकर परिवार वालों से जमीन के दस्तावेज मांगे। घरवालों ने जमीन के दस्तावेज देने से इंकार कर दिया। इससे एडुकोंडलू को भय सताने लगा कि कर्ज ना चुकाने की स्थिति में भट्टी मालिक जान से मार देगा। इसी डर से पति- पत्नी ने शराब में कीटनाशक पीकर आत्महत्या का प्रयास किया। इससे स्थानीय लोग इन दोनो को स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया, जहां चिकित्सा के दौरान इनकी मौत हो गयी। पुलिस मामला दर्ज कर छानबीन कर रही है।