इस्लामाबाद : पाकिस्तान ने जासूसी के आरोप में मौत की सजा का सामना कर रहे भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के इकबालिया बयान वाला एक और वीडियो जारी किया है। इसमें जाधव कथित तौर पर यह कबूल करते नजर आ रहे हैं कि वह भारतीय नौसेना के एक अधिकारी हैं और मुलाकात के दौरान उनके परिवार के साथ मौजूद राजनयिक उनकी मां पर चिल्लाये थे। हालांकि, पाकिस्तान विदेश कार्यालय द्वारा जारी वीडियो की सत्यता का पता नहीं चल पाया है।

इस मामले में विदेश मंत्रालय ने कहा कि उसे पाकिस्तान की ओर से जारी किए गए कुलभूषण जाधव के नए वीडियो पर कोई हैरत नहीं है। विदेश मंत्रालय ने कहा, पाकिस्तान ने दबाव देकर दिलवाया गया बयान वीडियो में डालने का अपना रवैया जारी रखा है। अब पाकिस्तान को यह समझ लेना चाहिए कि दुष्प्रचार की ऐसी कवायदों की कोई विश्वसनीयता नहीं है।

गौरतलब है कि भारत ने जाधव -उनके परिवार के बीच मुलाकात के तौर तरीकों को लेकर बनी सहमति का उल्लंघन किए जाने को लेकर कुछ ही दिन पहले पाकिस्तान की तीखी आलोचना की थी और 47 वर्षीय भारतीय नागरिक की हालत के बारे में सवाल किए थे।

संबंधित खबर

पाक की ‘बेतुकी’ सफाई, जाधव की पत्नी के जूते में धातु जैसा कुछ था

जाधव की पत्नी के जूतों को नये विवाद का जरिया बना सकता है पाक, जांच कराने का दावा

भारत ने यह भी कहा था कि पाकिस्तान विदेश कार्यालय में 25 दिसंबर को सख्त नियंत्रण वाली मुलाकात के दौरान जाधव मजबूर और तनाव में नजर आए। मुलाकात की तस्वीरें पाकिस्तान ने जारी की थी। तस्वीरों में जाधव को कांच के एक स्क्रीन के पीछे बैठा दिखाया गया है जबकि उनकी मां और पत्नी दूसरी ओर बैठी थी। वे इंटरकॉम से बातचीत कर रहे थे और ऐसा प्रतीत होता है कि 40 मिनट चली मुलाकात का वीडियो बनाया गया।

कथित वीडियो में जाधव ने कहा, मैं अपनी मां की आंखों में डर देख सकता हूं, जब मेरी मां बाहर जा रही थी तब भारतीय राजनयिक उन पर चिल्ला रहे थे। मैंने उनका चिल्लाना देखा। यह (मुलाकात) एक सकारात्मक चीज थी इसलिए वह (मेरी मां) खुश होंगी और मैं भी खुश रहा होउंगा।

हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि जाधव ने अपनी मां के बाहर जाने पर उन पर राजनयिक को चिल्लाते कैसे देख लिया। जाधव के परिवार के साथ मौजूद राजनयिक इस्लामाबाद में भारत के उप उच्चायुक्त हैं। जाधव को पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने जासूसी के आरोप में मौत की सजा सुनाई है। हालांकि, भारत ने इस आरोप को खारिज कर दिया है।