नई दिल्ली : पाकिस्तान की जेल में कैद भारतीय कुलभूषण जाधव की मां और पत्नी के साथ बदसलूकी पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आज राज्यसभा में अपना बयान दिया। गौरतलब है कि कुलभूषण मामले में पाकिस्तान के रवैये को लेकर पूरा भारत आगबबूला है।

सुषमा स्वराज में सदन में पाकिस्तान की घिनौनी हरकत की पूरे सदन कड़ी भर्त्सना करता है। सरकार ने कुलभूषण जाधव को सुनायी गयी मौत की सजा पर सफलतापूर्वक रोक लगवायी।उन्होंने कहा कि यह बड़़ा अफसोस है कि पाकिस्तान ने इस मुलाकात को प्रोपेगेंडा बनाया और जाधव की मां सिर्फ साड़ी पहनती हैं, उनके भी कपड़े भी बदलवा दिये गए। मीडिया को मां और पत्नी के करीब जाने दिया गयो जो कि हमारी शर्तों के खिलाफ था।

ये भी पढ़े :

यूपी में बीबी के देर से उठने पर शौहर दिया तलाक

राहुल गांधी बोले, खतरे में है बाबा साहेब अंबेडकर का दिया हुआ संविधान

मुलाकात से लौटने के बाद मां-पत्नी ने बताया कि कुलभूषण दबाव में हैं. उनके कैद करने वालों ने जो उन्हें बोलने के लिए कहा था जाधव सिर्फ वही बोल रहे थे. पाकिस्तान जाधव की मां-पत्नी के जूतों के साथ कुछ शरारत कर सकता है।

इस मीटिंग में सिर्फ मानवाधिकार के नियमों का उल्लंघन ही हुआ है। पाकिस्तान में जाने से पहले एयरपोर्ट पर दो जगह मां और पत्नी की चैकिंग हुई, तो क्या जब कोई चिप नहीं दिखाई दी. पूरा सदन पाकिस्तान के इस व्यवहार की निंदा करता है. कुलभूषण ने अपनी मां को देखते ही सबसे पहले पूछा कि बाबा कैसे हैं क्योंकि जैसे ही उसने मां को बिना मंगलसूत्र और चूड़ी के देखा उसे शक हुआ कि कहीं कुछ अशुभ ना हो गया हो।

विपक्ष ने किया सरकार का समर्थन

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के बयान का समर्थन किया। उन्होंने कहा कि जाधव पर जो भी आरोप लगाए गए हैं, वो झूठे और फर्जी हैं। पाकिस्तान में कोई लोकतंत्र नहीं है, हम पाकिस्तान को अच्छी तरीके से जानते हैं। जाधव की मां-पत्नी के साथ जो भी हुआ है, वो अपमान पूरा देश का है। कांग्रेस के अलावा अन्य सभी पार्टियों ने भी सरकार के बयान का समर्थन दिया।