हैदराबाद: मादिगा आरक्षण संघर्ष समिति (एमआरपीएस) के संस्थापक अध्यक्ष मंदाकृष्ण मादिगा बुधवार सुबह चंचलगुड़ा जेल से रिहा हुए। पिछले 10 दिनों से जेल में कैद मंदा कृष्णा आज जमानत पर रिहा हुए।

इस मौके पर उन्होंने तेलंगाना सरकार पर संविधान के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए कहा कि तेलंगाना आंदोलन में भाग लेने वाले केसीआर के खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं किया गया, लेकिन हमारे शांतिपूर्वक रैली करने वालों पर 20 मामले दर्ज किये गये हैं।

उन्होंने सवाल किया कि जमींदरों के लिये एक कानून और दलितों के लिए दूसरा कानून है। तेलंगाना के लिये केसीआर के अनशन करने पर एमआरपीएस ने उनका समर्थन किया था, लेकिन वर्गीकरण के लिये शांतिपूर्वक रैली करने पर केसीआर ने उन्हें (मंदाकृष्णा) 10 दिन तक जेल में रखवाया।

उन्होंने कहा कि संसद का शीतकालीन सत्र समाप्त होने से पहले राज्य सरकार को सर्वदलीय प्रतिनिधि मंडल को दिल्ली ले जाना चाहिए और ऐसा नहीं होने की स्थिति में विरोध प्रदर्शन जारी रखेंगे और 1 से 5 जनवरी तक अनशन करेंगे।