नई दिल्ली : पाकिस्तान में मौत की सजा का सामना कर रहे कुलभूषण जाधव से उनकी मां और पत्नी को जिस तरीके से मुलाकात कराया गया, उसे लेकर भारत ने मंगलवार को पाकिस्तान की निंदा की और कहा कि यह 'हमारे बीच आपसी समझ' का सरासर उल्लंघन है।

भारत ने कहा कि दोनों महिलाओं को मंगलसूत्र, चूड़ियां, और बिंदी तक उतारनी पड़ी और उन्हें मराठी भाषा में बात नहीं करने दिया गया। भारत ने अपने बयान में कहा, "हम अफसोस के साथ कह रहे हैं कि पाकिस्तानी पक्ष ने जिस तरह से मुलाकात आयोजित की, वह 'मौजूदा आपसी समझ' का सरासर उल्लंघन है।"

बयान में कहा गया है कि जाधव की पत्नी चेतनकुल के जूते वापस नहीं किए गए और इस्लामाबाद में विदेश विभाग के कार्यालय के बाहर कुछ पाकिस्तानी मीडियाकर्मियों ने दोनों महिलाओं को ताने मारे। बयान में यह भी कहा गया है कि मुलाकात से प्राप्त फीडबैक के अनुसार, "ऐसा प्रतीत होता है कि जाधव काफी दबाव में थे और तनाव की स्थिति में बात कर रहे थे।"

बयान के अनुसार, "जाधव की अधिकतर टिप्पणी स्पष्ट तौर पर सिखाई हुई और पाकिस्तान में कथित रूप से उसकी संदिग्ध गतिविधि पर आधारित थी। मुलाकात के दौरान उसकी उपस्थिति से उनके स्वास्थ्य पर सवाल उठ रहे हैं।" दोनों पक्षों के बीच शीशे की दीवार थी और इंटरकॉम के जरिए बातचीत हुई।

-आईएएनएस