इलाहाबाद : इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने यथास्थिति बरकरार रखने के आदेश का उल्लंघन करने के लिए पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड के निदेशक बाबा रामदेव एवं अन्य को सोमवार को अवमानना के नोटिस जारी किया।

गौतमबुद्ध नगर के कादरपुर गांव के किसान सोहन लाल द्वारा अवमानना के संबंध में दायर एक याचिका पर न्यायमूर्ति एके मिश्र ने यह आदेश पारित किया।

बाबा रामदेव के अलावा, गौतमबुद्ध नगर के जिलाधिकारी बीएन सिंह और यमुना एक्सप्रेसवे प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अरण वीर को भी अवमानना के नोटिस जारी किए गए हैं।

यह भी पढ़ें :

रामदेव ने पृथक हल्दी बोर्ड की स्थापना के लिये PM नरेंद्र मोदी को लिखा पत्र

बाबा रामदेव को टक्कर देने आ रहे हैं रविशंकर, ‘श्री श्री तत्वा’ ने की फ्रेंचाइजी स्टोर खोलने की तैयारी

याचिकाकर्ता का आरोप है कि अदालत के 26 अप्रैल, 2013 के आदेश के बावजूद जिसमें इस अदालत ने संबद्ध पक्षों को विवादित जमीन पर यथास्थिति बनाए रखने का निर्देश दिया था, बाबा रामदेव एवं अन्य ने चाहरदीवारी की घेराबंदी कर इस आदेश का उल्लंघन किया।

इस मामले के तथ्यों के मुताबिक, राज्य सरकार द्वारा यमुना एक्सप्रेसवे के पक्ष में इस विवादित जमीन का अधिग्रहण किया गया था, जिसे बाद में पतंजलि आयुर्वेद को फूड प्लाजा स्थापित करने के लिए आवंटित कर दिया गया।

इस भूमि अधिग्रहण को याचिकाकर्ता द्वारा चुनौती दी गई जिस पर उच्च न्यायालय ने 26 अप्रैल, 2013 को संबद्ध पक्षों को यथास्थिति बनाए रखने का निर्देश दिया था।