पटना : राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने जनता दल (युनाइटेड) के बागी शरद यादव और अली अनवर की राज्यसभा सदस्यता समाप्त करने पर कहा कि जनता तय करेगी कि इन लोगों का कसूर क्या था। उन्होंने कहा कि जिस व्यक्ति ने समता पार्टी के समय से मदद की उसे ईर्ष्या और जलन के कारण हटा दिया गया।

पटना में मंगलवार को पत्रकारों से चर्चा करते हुए लालू ने नीतीश के 'हाथ पकड़ने वाले' बयान पर कहा, "मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बार-बार मेरे पास 'टीका' लगवाने आते थे और मैंने कभी आशीर्वाद देने में ढिलाई नहीं की। वह (नीतीश) खुद मेरे और राबड़ी के पास चल कर आए और बोले कि अब हमलोगों का तो राजनीति में उम्र हो गया आने वाला दिन बच्चों का ही है।"

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ने सोमवार को परोक्ष रूप से राजद प्रमुख लालू प्रसाद पर तंज कसते हुए कहा था कि जिन्होंने मेरा हाथ पकड़ा, उन्होंने परेशान किया और फिर हाथ छुड़ा लिया।

नीतीश ने बिना किसी का नाम लिए कहा, "लोगों ने मेरा हाथ पकड़ा था, मैंने किसी का हाथ नहीं पकड़ा और जब पकड़ लिया तो परेशान करने लगने थे और हाथ छुड़ाने की कोशिश करने लगे तो मैंने भी ऐसे हाथ को छोड़ दिया।"

लालू ने गुजरात चुनाव में भाजपा के हार की भविष्यवाणी करते हुए कहा कि भाजपा घबराई हुई है। यही कारण है कि प्रधानमंत्री वहां लगातार सभाएं कर रहे हैं।