पटना: जनता दल (यूनाइटेड) के बागी नेता शरद यादव और अली अनवर की राज्यसभा सदस्यता खत्म होने पर पार्टी ने तंज कसा है। जद (यू) के प्रवक्ता नीरज कुमार ने मंगलवार को शरद यादव को नसीहत देते हुए कहा कि अब केवल राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद 'जिंदाबाद' कहने से काम नहीं चलेगा अब लालू के पुत्र तेजस्वी, तेजप्रताप और राबड़ी देवी का भी गुणगान करना होगा। वहीं शरद ने इसका जवाब देते हुए का कि लोकतंत्र की रक्षा के लिए उनका संघर्ष जारी रहेगा।

शरद यादव ने ट्वीट कर लिखा कि महागठबंधन के खिलाफ बोलने की उन्हें सजा मिली है।

उन्होंने कहा, "शरद और अली अनवर ने जब राजनीति में भ्रष्टाचार और परिवारवाद के परिचायक लालू प्रसाद 'जिंदाबाद' का नारा लगाया था, तब जद (यू) ने राज्यसभा सचिवालय में उनकी सदस्यता समाप्त करने के लिए आवेदन दिया था। इस निर्णय का जद (यू) स्वागत करता है, इससे राजनीति में शुचिता का संदेश गया है।"

उन्होंने कहा कि इस निर्णय से दलबदल कानून की रक्षा हुई है। नीरज ने शरद यादव पर कटाक्ष करते हुए उन्हें सलाह दी, "शरद जी, अब राजनीति धर्नाजन का माध्यम है, यह सिद्घांत के रूप में अपने जीवन में प्रतिपादित कीजिए, अब केवल यही रास्ता बचा है।"

उल्लेखनीय है कि जद (यू) के बागी सांसद शरद यादव और अली अनवर को सोमवार को राज्यसभा से अयोग्य करार दिया गया। उनकी सदस्यता तत्काल प्रभाव से रद्द कर दी गई। राज्यसभा में जद (यू) के नेता आऱ सी़ पी़ सिंह की याचिका पर यह फैसला किया गया।

नीतीश कुमार के भाजपा से हाथ मिलाने के बाद ये दोनों नेता नाराज चल रहे थे और पार्टी से बगावत कर दी थी।

शरद यादव और अली अनवर ने बिहार के महागठबंधन टूटने के बाद विपक्ष का साथ दिया था। शरद यादव को राज्यसभा में पिछले साल ही चुना गया था और उनका कार्यकाल 2022 तक था, जबकि अली अनवर का कार्यकाल 2018 में समाप्त होने वाला था।