अमरेली : कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार को नोटबंदी को काले धन को सफेद बनाने वाली योजना करार दिया और साथ ही उन्होंने राजग के सत्ता में आने के बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह की कंपनी को बड़े पैमाने पर हुए फायदे का मुद्दा उठाया।

गांधी ने यहां एक चुनावी रैली में कहा, "नोटबंदी को अचानक लागू किया गया था, शायद उन्हें 500 और 1,000 रुपये के नोट पसंद नहीं आए। आठ नवंबर को पूरे देश कतार में खड़ा था.. लेकिन क्या आपने बैंक के बाहर कतार में गुजरात के किसी भी बड़े उद्योगपति को देखा था? क्या आपने किसी मर्सिडीज कार वाले को कतार में खड़े देखा?"

राहुल ने कहा, "जो मर्सिडीज चलाते हैं, वे पीछे के दरवाजे से बैंक में गए और उन्होंने अपने काले धन को बदलवा लिया।"

कांग्रेस नेता ने आगे कहा, "यह नोटबंदी की वास्तविकता है। चोरों ने अपने काले धन को सफेद कर लिया और आप कतार में खड़े रहे।"

उन्होंने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह की कंपनी का भी मुद्दा उठाया।

राहुल ने कहा, "जादुई रूप से अमित शाह के बेटे की कंपनी ने तीन महीने में 50,000 रुपये से 80 करोड़ रुपये कमा लिए.. लेकिन मुनाफा कमाने वाली कंपनी तीन महीने में बंद हो गई।

राहुल गांधी ने आगे कहा कि मोदी सरकार ने गुजरात चुनाव से पहले संसद के शीतकालीन सत्र को टाल दिया, क्योंकि वह जय शाह की कंपनी और राफेल सौदे जैसे मुद्दों से डरती है।