रायपुर: यहां प्याज की रेड़ी लगाने वाले एक शख्स तीरथ प्रसाद मिश्रा को तब जोर का झटका लगा। जब उसे पता चला कि उसके खाते में नोटबंदी के दौरान किसी ने पचास लाख रुपए जमा कराए थे। मजे की बात ये कि कुछ ही घंटों में पूरी रकम निकाल भी ली गई थी। अब खामियाजा ये कि प्याज बेचकर किसी तरह गुजर बसर करने वाले शख्स को आयकर विभाग ने नोटिस थमा दिया। जिसमें शख्स से 50 लाख रुपए का हिसाब मांगा गया है।

हैरान परेशान तीरथ ने तत्काल बैंक अधिकारियों से संपर्क साधा। हालांकि यहां से उसे कोई संतोषजनक उत्तर नहीं मिल सका है। अब इन्हें सूझ नहीं रहा कि ये आयकर विभाग के नोटिस का क्या जवाब दें।

पीड़ित तीरथ प्रसाद मिश्रा की हालत ये कि वे रोज सब्जी और प्याज की रेड़ी लगाते हैं। इनके खाते में औसतन 3 से 4 हजार रुपए ही जमा होता है। जिनमें कुछ रकम कभी कभार ये निकालते भी हैं। एचडीएफसी बैंक में खुला इनका खात अब इनके लिए जी का जंजाल बन गया है।

बता दें कि नोटबंदी के दौरान जिस भी खाते से बड़ी लेन देन हुई है, उसका हिसाब किताब अब आयकर विभाग की ओर से मांगा जा रहा है। जिसके लिए संबंधित व्यक्तियों को नोटिस भी दी जा रही है। इनमें कई ऐसे लोग हैं जिन्हें पता ही नहीं चला कि कब और कैसे उनके खाते से बड़ी रकम की लेन देन की गई। मामले की जांच हुई तो बैंक के अधिकारी भी घेरे में आ सकते हैं।