हैदराबाद: उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने कहा कि देश में हर नागरिक को हिन्दी सीखने की जरूरत है। उपराष्ट्रपति ने आज शहर के अमीरपेट में आयोजित दक्षिण भारत हिन्दी प्रचार सभा के विशारद दीक्षांत समारोह में भाग लिया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि भाषा भावनाओं को व्यक्त करने और मानसिक विकास में सहायता करती है।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि सबसे पहले हर किसी को अपनी मातृ भाषा सीखनी चाहिए। मां, जन्मभूमि, मातृभूमि और मातृ देश को नहीं भूलना चाहिए। उन्होंने बताया कि देश में अधिकांश लोग हिन्दी में बातें करने लगे हैं और उसे समझने लगे हैं।

ऐसे में हिन्दी भाषा को प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि वर्ष 1935 में विजयवाड़ा में दक्षिण भारत हिन्दी प्रचार सभा स्थापित की गई थी और उसके द्वारा राज्य में अनेक अध्यापक और प्रचारक बने हैं। उन्होंने कहा कि हिन्दी प्रचार सभाओं के कारण लाखों विद्यार्थी लाभान्वित हो रहे हैं। इस कार्यक्रम में तेलंगाना के उपमुख्यमंत्री महमूद अली, भाजपा विधायक चिंतला रामचंद्रा रेड्डी उपस्थित थे।