पटना: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की बिहार इकाई नोटबंदी के एक वर्ष पूरा होने के उपलक्ष में आठ नवंबर को 'कालाधन विरोध दिवस' मनाएगी। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय ने यहां सोमवार को कहा कि नोटबंदी से भारत में गरीबों के लिए आर्थिक क्रांति का सूत्रपात हुआ है।

पटना में एक संवाददाताओं से मुखातिब राय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जहां गरीबों को 'आर्थिक आजादी' दिलाई है, वहीं आजादी के बाद भारत में कालाधन, बेनामी संपत्ति पर अंकुश को लेकर ऐतिहासिक कदम उठाए हैं।

उन्होंने कहा, "नोटबंदी और जीएसटी भारत में आर्थिक सुधार के लिए उठाया गया अब तक का सबसे बड़ा कदम है।"

यह भी पढ़ें:

8 नवंबर को काले दिन के रूप में मनाएगा विपक्ष

भाजपा नेता ने बताया कि नोटबंदी के एक साल पूरे होने पर आठ नवंबर को बिहार भाजपा सभी जिला मुख्यालयों और विधानसभा क्षेत्रों में 'कालाधन विरोध दिवस' मनाएगी। उन्होंने कहा, "इस दिन हम सभी प्रधानमंत्री के कालाधन मिटाने और भारत को कालाधन मुक्त बनाने के संकल्प को दुहराएंगे।"

नोटबंदी को एक बड़ा ऐतिहासिक फैसला करार देते हुए उन्होंने कहा, "नोटबंदी देशव्यापी कालाधन, विदेशों में जमा कालाधन, अवैध मुद्रा चलन और राष्ट्रविरोधी गतिविधियों पर अंकुश लगाने को लेकर केंद्र सरकार द्वारा अब तक का उठाया गया सबसे बड़ा कदम था।"

उन्होंने कहा कि भाजपा 'भ्रष्टाचार मुक्त भारत' के सपने को साकार करने में लगी है, जिसकी सबसे बड़ी मिसाल है कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर भ्रष्टाचार का कोई दाग शासन के साढ़े तीन साल में नहीं लगा है। इसी कड़ी में कई आंकड़ों का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि कालाधन के खिलाफ मोदी सरकार ने जो अभियान छेड़ा है, उसके अच्छे परिणाम आने लगे हैं।

उन्होंने कहा कि 25 साल से लटके बेनामी संपत्ति कानून को पारित किए जाने के बाद करीब 800 करोड़ रुपये की बेनामी संपत्ति जब्त की गई है। सरकार के नोटबंदी के कदम से दो लाख करोड़ रुपये से अधिक की अघोषित संपत्ति बैंकिंग तंत्र में आई है।

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल आठ नवंबर को चलन में रहे 500 और 1000 के नोटों पर प्रतिबंध लगा दिया था। इस तारीख की वर्षगांठ पर सत्तापक्ष जहां 'कालाधन विरोध दिवस' मनाएगा, वहीं विपक्ष 'काला दिवस' मनाएगा। राज्य के सभी जिला मुख्यालयों में इस दिवस पर सत्तापक्ष और विपक्ष आमने-सामने होंगे।