मुंबई: राजग का घटक दल शिवसेना पिछले कुछ समय से भाजपा मुख्य रूप से नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार के खिलाफ एक तरह का अभियान छोड़ रखा है। शिवसेना भाजपा के खिलाफ लगातार आग उगल रही है और मोदी सरकार के हर फैसले को गलत बताने में जुटी है। इसी क्रम में उस पार्टी के सांसद संजय राउत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लहर फीका पड़ने और राहुल गांधी को प्रधानमंत्री पद के लिये काबिल बताकर कांग्रेस का समर्थन किया है।

गौरतलब है कि साल 2015 में शिवसेना ने कहा था कि 100 राहुल गांधी भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की महालहर की बराबरी नहीं कर सकते और ‘सूट बूट की सरकार’ तंज को लेकर राहुल गांधी का मजाक उड़ाया था। संजय राउत ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पीएम बनने के बिलकुल काबिल हैं और ऐसे भी पीएम नरेंद्र मोदी की लहर दिनों-दिन फीकी पड़ने लगी है।

राउत ने कहा कि जीएसटी को लागू किए जाने के खिलाफ गुजरात के लोगों में रोष इस बात का संकेत है कि बीजेपी को चुनाव में एक कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ेगा।

ये भी पढ़े :

शिवसेना को वीडियोकॉन ने दिया 85 करोड़ का फंड

“गुजरात में विकास मॉडल है सफल, तो भाजपा क्यों कर रही बड़ी-बड़ी घोषणाएं?”

बता दें कि गुजरात में दो चरणों में चुनाव होगा। पहला फेस में 89 सीटों के लिए वोटिंग होगा। 14 नवंबर को नोटिफिकेशन जारी होगा। 21 नवंबर को नामांकन का आखिरी दिन होगा। उसके बाद 22 नवंबर को नामांकन पत्रों की स्क्रूटनी होगी। 9 दिसंबर को पहले चरण के लिए वोटिंग होगी। दूसरे चरण के लिए 14 दिसबंर को 93 सीटों के लिए वोटिंग होगी। 18 दिसबंर को हिमाचल चुनाव के साथ गुजरात चुनाव के भी नतीजे आएंगे।

शिवसेना सांसद ने सोशल मीडिया के एक धड़े की ओर से कांग्रेस उपाध्यक्ष की खिल्ली उड़ाने के लिए इस्तेमाल किए जाने जाने वाले नाम का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘कांग्रेस नेता राहुल गांधी देश का नेतृत्व करने में सक्षम हैं. उन्हें ‘पप्पू’ कहना गलत है।’’ कार्यक्रम में राज्य के शिक्षा मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता विनोद तावडे भी मौजूद थे। एक निजी टीवी चैनल पर चर्चा के दौरान ये बात कही।

संजय राउत ने संभवत: बीजेपी को आड़े हाथ लेते हुए कहा, ‘‘देश में सबसे बड़ी राजनीतिक शक्ति जनता है...मतदाता हैं। वो किसी को भी पप्पू बना सकते हैं।’’ गौरतलब है कि बीजेपी ने 2014 के आम चुनाव में भारी बहुमत हासिल किया था। उन्होंने कहा, ‘‘ 2014 के आम चुनाव में मोदी लहर थी लेकिन अब ऐसा लगता है कि यह फीकी पड़ गई है। जीएसटी पेश किए जाने के बाद जिस तरह से लोग गुजरात की सड़कों पर मार्च कर रहे हैं, उससे लगता है कि बीजेपी चुनौती का सामना करने जा रही है।’’