शिमला : चुनाव आयोग ने कहा है कि हिमाचल प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव के दौरान वह प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र से एक मतदान केंद्र की वीवीपीएटी पर्चियों को प्रायोगिक आधार पर गिनने पर विचार कर रहा है।

मुख्य चुनाव आयुक्त अचल कुमार ज्योति ने राज्य विधानसभा की तैयारियों की समीक्षा करते हुए कहा सोमवार को कहा कि पहली बार 68 विधानसभा सीटों के सभी 7,516 बूथों पर वीवीपीएटी मशीनों का इस्तेमाल किया जाएगा।

यह भी पढ़ें :

ईवीएम के साथ छेड़छाड़ नहीं की जा सकती: चुनाव आयोग

“वीवीपैट लगी ईवीएम से हो चुनाव तो भाजपा का कहीं भी जीतना मुश्किल”

निर्वाचन आयोग का दावा गलत, EVM से हुई छेड़छाड़, भाजपा के खाते में जा रहे थे गलत वोट

उन्होंने कहा, आयोग प्रत्येक विधानसभा सीट के एक मतदान केंद्र की वीवीपीएटी पर्चियों को प्रायोगिक आधार पर गिनने पर विचार कर रहा है।

इससे पहले कांग्रेस ने चुनाव आयोग से आग्रह किया कि वह आगामी चुनाव अनिवार्य रुप से वीवीपीएटी (मतदाता सत्यापन पेपर ऑडिट ट्रेल) के साथ करवाए और इस संबंध में अपनी प्रतिबद्धता और उच्चतम न्यायालय के आदेश का सम्मान करे। इस साल के अंत में गुजरात और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं।