करीमनगर (तेलंगाना) : दलितों को दी जा रही भूमि आवंटन में धांधलियां होने का आरोप लगाते हुए आत्मदाह का प्रयास करने वाले व्यक्ति की रविवार को मौत हो गयी।

बता दें कि जिले के गुडेम गांव निवासी महांकाली श्रीनिवास और यालाला परशुराम कुछ समय से सरकार की ओर से दलितों को दी जा रही भूमि आवंटन में धांधलियां होने का आरोप लगा रहे थे। मगर उनके इस आरोप को किसी ने भी गंभीरता से नहीं लिया गया। इसी क्रम में श्रीनिवास और परशुराम ने इस माह की तीन तारीख को मानकोंडुर निर्वाचन क्षेत्र के विधायक रसमयी बालकिशन के कार्यालय के सामने पेट्रोल उंडेल कर आत्मदाह का प्रयास किया।

यह भी पढ़े:

CM KCR के आश्वासन पर खरे न उतरने का आरोप लगाते हुए होमगार्ड ने की आत्महत्या

गंभीर रूप से घायल श्रीनिवास और परशुराम को हैदराबाद के एक अस्पताल में भर्ती करवाया गया। 22 दिन मौत से जूझने के बाद श्रीनिवास ने आज अंतिम सांस ली।

इलाज के बाद परशुराम के स्वास्थ्य में सुधार हुआ है। अधिकारी उसे सोमवार को अस्पताल से छुट्टी दे रहे हैं।

इस घटना के बाद पुलिस ने विधायक बालकिशन कार्यालय के सामने भारी बंदोबस्त किया है। इसी क्रम में श्रीनिवास की मौत के बाद अनेक जगहों पर विधायक के पुतले जलाये गये।

दूसरी ओर तेलंगाना सरकार ने मृतक के परिवार को दस लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है।