हैदराबाद: न्यायालय के आदेश की अवहेलना किये जाने मामले तेलंगाना और आंध्रप्रदेश की अदालत ने विशाखापट्टनम नगर निगम के पूर्व आयुक्त और वर्तमान जिलाधीश प्रवीण कुमार को 30 दिन के लिए जेल की सजा सुनाई है। साथ ही 1500 रुपये जुर्माना अदा करने ,जुर्माना अदा ना करने की स्थिति में एक और महिेने जेल की सजा काटने की बात कही है।

साथ ही अदालत ने अपील के लिए 4 सप्ताह का समय दिया है। जेल की सजा काटने के दौरान प्रवीण कुमार को हर रोज 300 रुपये दैनिक भत्ता भुगतान करने का सरकार को आदेश दिया है। इस बारे में न्यायाधीश जस्टिस एम.एस. रामचन्द्र मूर्ति ने फैसला सुनाया है। विशाखापट्टनम की जूपीटर आटोमोबाइल ने भवन निर्माण के लिए विशाखापट्टनम नगर निगम में आवेदन किया था।

इसे भी पढ़ें....

गोरखधंधे का खुलासा : बिस्किट में मिलाई जा रही थी धान की भूसी, और भी बहुत कुछ.

.मुख्यमंत्री के चन्द्रबाबू नायुडू के आवास के पास मिला अजगर

जानें कैसे.. इलाज के बाद 215 से 70 किलो हो गए पंढ़रीनाथ

विशाखापट्टनम नगर निगम के अधिकारियों ने आवेदन को ठुकरा दिया। इससे जूपीटर आटोमोबाइल ने वर्ष 2009 में अदालत में याचिका दायर की। इस याचिका पर सुनवाई के बाद अदालत ने भवन निर्माण के लिए अनुमति देने का आदेश दिया । इसके बावजूद अनुमति ना मिलने से उच्च न्यायालय ने आदेश की अवहेलना किये को लेकर तत्कालीन आयुक्त और वर्तमान के जिलाधीश को यह सजा सुनाई।