नई दिल्ली (भाषा) : वित्त राज्यमंत्री अर्जुनराम मेघवाल ने आज कहा कि नोटबंदी तथा सरकार के डिजिटल अर्थव्यवस्था पर जोर से निश्चित रुप से देश की जीडीपी में बढोतरी होगी।


नोटबंदी के जीडीपी पर असर को लेकर जारी बहस का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर विशेषज्ञों की राय अलग अलग है, लेकिन जोर दिया कि ‘यह (जीडीपी) निश्चित रुप से बढेगी।

'मेघवाल ने कहा कि आर्थिक गतिविधियों का लगभग 23.2 प्रतिशत हिस्सा ‘छाया अर्थव्यवस्था' है और नकदीरहित लेनदेन पर सरकार के जोर से कर आधार बढेगा।


उन्होंने कहा,‘ हमारा कर दायरा बढेगा और ‘छाया अर्थव्यवस्था' के तहत आने वाली आर्थिक गतिविधियों की (जीडीपी) में गिनती शुरु हो जाएगी और इससे जीडीपी निश्चित रुप से बढेगा।


' मंत्री ने विकसित देशों की तुलना में भारत में जीडीपी और नकदी के उंचे अनुपात पर चिंता जताई और कहा कि नोटबंदी व भुगतान के डिजिटलीकरण से यह अंतर कम होगा।


उल्लेखनीय है कि सरकार ने आठ नवंबर 2016 को नोटबंदी के तहत 500 व 1000 रपये के मौजूदा नोटों को चलन से बाहर कर दिया। इसके बाद वह डिजिटल लेनदेन को बढावा देने के लिए अनेक कदम उठा रही है।