पटना : बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी के नेता सुशील कुमार मोदी ने कहा कि "लालू को बजट की समझ नहीं है। उन्हें बजट पर बोलने का कोई अधिकार नहीं है।"

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष और पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद ने बिहार की अनदेखी, घोषणा के बावजूद विशेष पैकेज का जिक्र न किए जाने और बेरोजगारों के लिए कोई प्रावधान न किए जाने पर केंद्र सरकार के बजट की आलोचना की है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तुलना मनमानी के लिए मशहूर अमेरिका के नए राष्ट्रपति डोनाल्ट ट्रंप से की है। दोनों को 'जुड़वा भाई' तक करार दे दिया है।

उनकी बातों से आहत सुशील कुमार मोदी ने कहा, "ये वही लालू प्रसाद हैं, जिनके शासनकाल को बिहार में 'जंगलराज' कहा जाता था। यहां के व्यवसायी उस दौर में पलायन करने लगे थे। लालू को बजट की समझ नहीं है। उन्हें बजट पर बोलने का कोई अधिकार नहीं है।"

भाजपा नेता ने आम बजट को गरीबों और पिछड़े राज्यों के लिए लाभप्रद बताया। उन्होंने कहा, "बजट में किसानों को 10 लाख कर्ज दिए जाने का प्रस्ताव किया गया है, जिससे उन्हें फायदा मिलेगा। मनरेगा में 10 हजार करोड़ रुपये की वृद्धि की गई है। गरीबों के मकान के लिए और ग्रामीण सड़कों के निर्माण के लिए भी पैसा बढ़ाया गया है।"

मोदी ने कहा कि कालाधन पर हमले को आगे बढ़ाते हुए ऋण लेकर फरार लोगों की संपत्ति जब्त करने का प्रस्ताव बजट में किया गया है। बजट का सर्वाधिक फायदा बिहार जैसे गरीब राज्यों को मिलेगा।

उल्लेखनीय है कि आम बजट को लालू ने निराशाजनक बजट बताते हुए कहा है कि इस बजट में गरीबों, किसानों के लिए कुछ भी नहीं है। लालू प्रसाद जब रेल मंत्री थे, तो उनके रेल बजट की काफी तारीफ हुई थी। रेलवे को मुनाफे में पहुंचाने के 'मैनेजमेंट' का गुर सिखाने के लिए उन्हें विदेशों से भी बुलावा आने लगा था।